Category Archives: Uncategorized

A complete package of medical books (free download)

A complete package of medical books (free download)
Courtesy : Dr Mansoor Ali

Complete package including links to download all the pdf books you will need in MBBS, BHMS or BAMS
Compiled from diffrent sources by Dr Mansoor Ali 
All that you need a Google Drive Account
Anatomy: 
KLM for Gross Anatomy

Snell’s Anatomy

BD Churassia

RJ Last

Grey’s Anatomy

Langman Embryology

KLM for Embryology

BD For General Anatomy

Dissector

Di Fore Histology

Junqueira’s Histology

Netter Atlas of human Aantomy

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LYV9KQ3lxY29FY28
Physiology:-
Guyton

Ganong

Sheerwood

Sembulingam

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LdXlCSjdZM214dEE
Biochemistry
Harper

Lippincott

Chatterjea

Satyanarayan

Stryer

MRS Biochemistry

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0Ld0o3WnhCR2VEczg
Pathology
Big Robins

Medium Robins

Pathoma

Goljan

Harsh Mohan Pathology

Atlas of Histopathology

Levinson

MRS microbiology

Microbiology by Jacquelyn G. Black

Color Atlas of Microbiology

Kaplan Pathology

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LYkRYdjFrTm5MR0U
Pharmacology
Big Katzung

Mini Katzung

Kaplan Review

Lippincott

Pocket Katzung

Rang and Dale’s Pharmacology

tlas of Pharmacology

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LMkE1UUVRZGwtTlU
Forensic Medicine
Simpson’s Forensics

Krishan’s Forensics

Atlas of Autopsy

Atlas of Forensic Medicine

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LQXVwOGoyWnFSV2s
Ophthalmology
Jogi

Jatoi

Parson’s Textbook of Eye

Kanski

AK Khurana

tlas of ophthalmology

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LOHc5WVZMdkJjX2M
Otorhinolaryngology
Dhingra

Logans Turner

Color Atlas of Otorhinolaryngology

Maqbool’s Text Book of ENT

Clinical Methods in ENT by PT Wakode

ENT at a Glance

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LaDY2a0lFNDlfTGc
Community Medicine:–
Monica’s Text Book Community Medicine

Mahajan And Gupta Text Book of Community Medicine

Bancroft’s Text Book of Community Medicine

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0Lc1RCMml2NjhFNjA
Medicine:-
Churchill’s Pocketbook of DD

MTB Step 2 Ck

Davidson Essentials

Davidson Principals and practice

Harrison’s Internal Medicine

Internal Medicine USMLE Nuggets

Internal Medicine on call bt LANGE

Oxfords Specialties

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LeEFJNG5TMlc4eWc
Surgery:-
Bailey_love short practice of Surgery

Churchill’s pocketbook of Surgery

Deja Review of surgery

Farquharson’s Textbook of Operative General Surgery

Hamilton Bailey’s Physical Signs

Oxford Handbook of Clinical Surgery

Schwartz’s Principles of Surgery

Macleod’s Clinical Examination

Macleod’s Clinical Diagnosis

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LRFpFSG5hZ1pVWkE
Obstetrics & Gynecology:-
Case Discussions in Obstetrics and Gynecology

Deja Review of Obstetrics Gynecology

Obstetrics by Ten Teachers

Gynaecology illustrated

Gynaecology by Ten Teachers

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LMU1LRjFDa1FrbjA
Pediatrics:-
Nelson Essentials of Pediatrics[

Nelson Complete

Pediatrics Review

Folder link–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LUkdTQkVuNV92Yzg
1st Professional Books–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0Lay1HT1d5Yks5V0U
2nd Professional Books–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LemtmYXpYMGlydVk
3rd Professional Books–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LWmlCSHBpUFpPZU0
4th Professional Books–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LbnJvUzk3NHRhWWc
One Link For All eBooks–> https://drive.google.com/open?id=0B3WdpdsqpX0LQW5tbWEtUmJJY0k
ANATOMY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKTzNGR2owRXVKOUU
BIOCHEMISTRY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKVDNHTXBTZmV0MG8
DERMATOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKNlZCSnVJNjJ6cDg
FORENSIC: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKVElrOVh6dmI4NXc
MADE REDICULOUSLY SIMPLE SERIES: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKQVUxczhNRmRRNW8
MEDICINE: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKeWpVUFAyc1VEaW8
MICROBIOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKSlYwMEg1WEIxM2M
MISCELLANEOUS: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKd09OZmF5V3h0UW8
OB&G: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKbHNGaXE5OU5ER2c
OPHTHALMOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKc3hzTWNhUzFyU1k
OTORHINOLARYNGOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKalJHQVZvekY3alU
PAEDIATRICS: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKMDQ4Vkxqdmtodzg
PATHOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKSEJDUElNcDNvcUE
PHARMACOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKT0p4eXRmeHVIM2c
PHYSIOLOGY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKUTVjVk9CMGUyb00
PSM: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKS3NRVnVxSjhfWTg
PSYCHIATRY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKQVJxZTJWQlc1RG8
SURGERY: https://drive.google.com/open?id=0B3uas0Q6ChpKa3BQX0t3R3hENTA

Advertisements

Balance of Fluids~ Postpartum Care

The Homeopathic Pregnancy Blog

In the immediate postpartum women that have had fluids during labour often find themselves swollen and retaining that fluid.  Their breasts can become extra, extra-large and all their tissues seem congested and full.  Our bodies will resolve this eventually but the remedy – Apis 200Cwill push that process along, asking the body to sweat and pee out all the excess fluid.  This may help some little babes latch with less effort and allow mammas access to their regular shoes!

Newborn baby breastfeeding. Newborn baby breastfeeding.

Once that hurdle is jumped hydration is a very important aspect of postpartum care.  This is one place that partners can definitely help.  Offering water, keeping supplies of good quality drinks on hand, serving foods with high water components are all helpful ways of keeping the fluid balanced in a nursing mother.

Dehydration in a nursing mother can look like:

  • low energy
  • flat emotions
  • headaches
  • mastitis
  • weepy

View original post 137 और  शब्द

7CH Potency now available in India

image

Chappin & Nelson Homoeopaths are the sole manufacturers of the 7CH Potency in India.

A potency which is widely used all over Europe, especially France. Browse through the website for detailed information.

http://cnhomoeopaths.com/

Chappin & Nelson Homoeopaths
Registered Office: G-1 – Vardhman Fortune Mall, Near Dilkhush Industrial Estate, GT Karnal Road, New Delhi-110033 India

Works: I-3, Sector-5, DSIDC – Bawana Industrial Area, Delhi-110039, India

Contact : +91-7838383861

Email : cnhomoeopaths@yahoo.com

Source : http://www.homeobook.com/7ch-potency-now-available-in-india/

Advertisement for seeking Extra Mural Research Proposal by CCRH & AYUSH

Advertisement for seeking Extra Mural Research Proposal by CCRH & AYUSH
April 16, 2016 by adminExtra Mural Research Proposal by CCRH & AYUSH

Advertisement for seeking Extra Mural Research Proposal by CCRH & AYUSH

image

Ministry of Ayush, Govt of India conducts Extra Mural research through its research councils like Central Council of Research in Homoeopathy(CCRH), CCRAS, CCRUM,CCRYN,CCRS with the mandate to undertake research in respective system.

This time research proposal is on specific disease namely

Cancer
Mental and Cognitive diseases are invited
Who can apply

Medical, scientific and research & development institutions, University/Institutional department from private and government having adequate technical expertise.
GMP compliant institutes of AYUSH – private and public
Both hard and soft copies of the project proposals may be forwarded to the director general

Last date : 15/05/2016

Address :
Central Council for Research in Homoeopathy
61-65, Institutional Area, Janakpuri, New Delhi – 110058, India

Telephone :  91-11-28525523, 28521162

Fax : 91-11-28521060, 28521162

E-mail : ccrh@del3.vsnl.net.in

Source : http://www.indianmedicine.nic.in/writereaddata/linkimages/6349369834-Add%20EMR%20.pdf

More details on EMR Scheme
http://indianmedicine.nic.in/writereaddata/linkimages/9681894859-revised%20latest%20SCHEME%20FOR%20EXTRA%201.pdf

Courtesy : http://www.homeobook.com/advertisement-for-seeking-extra-mural-research-proposal-by-ccrh-ayush/

India to introduce Homoeopathy in 5 railway hospitals

image

Minister of Railways, Shri Suresh Prabhakar Prabhu while presenting the Railway Budget 2016-17 in Parliament today said that he was proud to lead a work force that is sincere and dedicated.

The Railway Minister said that Indian Railways will tie up with the Ministry of Health for ensuring an exchange between Railways hospitals and Government hospitals. Indian Railways will introduce AYUSH systems in 5 Railway hospitals.

Source : Homeobook

अनिद्रा रोग और होम्योपैथी ( Insomnia and Homeopathy )

image

अच्छी सेहत के लिए सिर्फ प्रॉपर डाइट लेना ही काफी नहीं है। अच्छी नींद भी हेल्दी रहने के लिए उतनी ही जरूरी है। आजकल कई प्रफेशन में डिफरेंट शिफ्ट्स में काम होता है। ऐसे में सबसे ज्यादा नींद पर असर पड़ता है। कई बार तो ऐसा होता है कि टुकड़ों में नींद पूरी करनी पड़ती है, लेकिन छोटी-छोटी नैप लेना सेहत के लिहाज से बेहद खराब होता है। एक रिसर्च के मुताबिक, खराब नींद यानि छोटे-छोटे टुकड़ों में ली गई नींद बिल्कुल न सोने से भी ज्यादा खतरनाक होती है। इससे कई तरह की बीमारियां शरीर को शिकार बना सकती हैं।

टुकड़ों में सोने वाले लोग सुबह उठकर भी फ्रेश नहीं फील करते हैं। रिसर्च में यह साबित हो चुका है। अमेरिका के जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों ने अपने शोध में दो तरह की नींद का अध्ययन किया है। इसमें रुकावट के साथ सोने वाली नींद और कम समय के लिए ही सही लेकिन शांति वाली नींद शामिल है। इन लोगों के मिजाज को जब कंपेयर किया गया तो पाया कि टुकड़ों में सोने वाले लोगों की तुलना में शांति से सोने वाले लोगों का मूड बेहतर था।

खराब नींद किडनी पर भी बुरा असर डालती है। शरीर में ज्यादातर प्रोसेस नैचरल डेली रिद्म (सरकाडियन क्लॉक या शरीर की प्राकृतिक घड़ी) के आधार पर होते हैं। ये हमारी नींद से ही कंट्रोल होता है। एक रिसर्च के मुताबिक जब सोने की साइकल बिगड़ती है तो किडनी को नुकसान होता है। इससे किडनी से जुड़ी कई बीमारियां हो सकती हैं।

आधी-अधूरी नींद दिल के लिए भी खतरे की घंटी है। इससे हार्ट डिजीज होने के चांस तो बढ़ते ही हैं, साथ ही दिल का दौरा भी पड़ सकता है। एक रिसर्च में खराब नींद की शिकायत करने वालों में अच्छी नींद लेने वालों के मुकाबले 20 फीसदी ज्यादा कोरोनरी कैल्शियम पाया गया।

कम नींद लेने से दिमाग सही तरह से काम नहीं कर पाता है। इसका सीधा असर हमारी याद‌्‌दाश्त पर पड़ता है। इसके अलावा, पढ़ने, सीखने व डिसीजन लेने की क्षमताएं भी इफेक्ट होती हैं। खराब नींद से स्ट्रेस लेवल भी बढ़ता है और इमोशनली वीक लोग डिप्रेशन के भी शिकार हो सकते हैं।

होम्योपैथिक उपचार में प्रयुक्त विभिन्न औषधियों से चिकित्सा

नींद लाने के लिए बार-बार कॉफिया औषधि का सेवन करना होम्योपैथी चिकित्सा नहीं है, हां यदि नींद न आना ही एकमात्र लक्षण हो दूसरा कोई लक्षण न हो तब इस प्रकार की औषधियां लाभकारी है जिनका नींद लाने पर विशेष-प्रभाव होता है- कैल्केरिया कार्ब, सल्फर, फॉसफोरस, कॉफिया या ऐकानाइट आदि।

1. लाइकोडियम-  दोपहर के समय में भोजन करने के बाद नींद तेज आ रही हो और नींद खुलने  के बाद बहुत अधिक सुस्ती महसूस हो तो इस प्रकार के कष्टों को दूर करने के लिए लाइकोडियम औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना लाभदायक होता है।

2. चायना-  रक्त-स्राव या दस्त होने के कारण से या शरीर में अधिक कमजोरी आ जाने की वजह से नींद न आना या फिर चाय पीने के कारण से अनिद्रा रोग हो गया हो तो उपचार करने के लिए चायना औषधि 6 या 30 शक्ति का उपयोग करना लाभदायक है।

3. कैल्केरिया कार्ब – इस औषधि की 30 शक्ति का उपयोग दिन में तीन-तीन घंटे के अंतराल सेवन करने से रात के समय में नींद अच्छी आने लगती है। यह नींद किसी प्रकार के नशा करने के समान नहीं होती बल्कि स्वास्थ नींद होती है।

4. कॉफिया – खुशी के कारण नींद न आना, लॉटरी या कोई इनाम लग जाने या फिर किसी ऐसे समाचार सुनने से मन उत्तेजित हो उठे और नींद न आए, मस्तिष्क इतना उत्तेजित हो जाए कि आंख ही बंद न हो, मन में एक के बाद दूसरा विचार आता चला जाए, मन में विचारों की भीड़ सी लग जाए, मानसिक उत्तेजना अधिक होने लगे, 3 बजे रात के बाद भी रोगी सो न पाए, सोए भी तो ऊंघता रहें, चौंक कर उठ बैठे, नींद आए भी ता स्वप्न देखें। इस प्रकार के लक्षण रोगी में हो तो उसके इस रोग का उपचार करने के लिए कॉफिया औषधि की 200 शक्ति का उपयोग करना चाहिए। यह नींद लाने के लिए बहुत ही उपयोगी औषधि है।  यदि गुदाद्वार में खुजली होने के कारण से नींद न आ रही हो तो ऐसी अवस्था में भी इसका उपयोग लाभदायक होता है। रोगी के अनिद्रा रोग को ठीक करने के लिए कॉफिया औषधि की 6 या 30 शक्ति का उपयोग करना लाभदायक होता है।

5. जेल्सीमियम –    यदि उद्वेगात्मक-उत्तेजना (इमोशनल एक्साइटमेंट) के कारण से नींद न आती हो तो जेल्सीमियम औषधि के सेवन से मन शांत हो जाता है और नींद आ जाती है। किसी भय, आतंक या बुरे समाचार के कारण से नींद न आ रही हो तो जेल्सीमियम औषधि से उपचार करने पर नींद आने लगती है। बुरे समाचार से मन के विचलित हो जाने पर उसे शांत कर नींद ले आते हैं। अधिक काम करने वाले रोगी के अनिंद्रा रोग को ठीक करने के लिए जेल्सीमियम औषधि का उपयोग करना चाहिए। ऐसे रोगी जिनकों अपने व्यापार के कारण से रात में अधिक बेचैनी हो और नींद न आए, सुबह के समय में उठते ही और कारोबार की चिंता में डूब जाते हो तो ऐसे रोगियों के इस रोग को ठीक करने के लिए जेल्सीमियम औषधि का प्रयोग करना चाहिए।

6. ऐकोनाइट –  बूढ़े-व्यक्तियों को नींद न आ रही हो तथा इसके साथ ही उन्हें घबराहट हो रही हो, गर्मी महसूस हो रही हो, चैन से न लेट पाए, करवट बदलते रहें। ऐसे बूढ़े रोगियों के इस प्रकार के कष्टों को दूर करने के लिए ऐकोनाइट औषधि की 30 का उपयोग करना लाभकारी है। यह औषधि स्नायु-मंडल को शांत करके नींद ले आती है। किसी प्रकार की बेचैनी होने के कारण से नींद न आ रही हो तो रोग को ठीक करने के लिए ऐकोनाइट औषधि का उपयोग करना फायदेमंद होता है।

7. कैम्फर – नींद न आने पर कैम्फर औषधि के मूल-अर्क की गोलियां बनाकर, घंटे आधे घंटे पर इसका सेवन करने से नींद आ जाती है।

8. इग्नेशिया – किसी दु:ख के कारण से नींद न आना, कोई सगे सम्बंधी की मृत्यु हो जाने से मन में दु:ख अधिक हो और इसके कारण से नींद न आना। इस प्रकार के लक्षण से पीड़ित रोगी को इग्नेशिया औषधि की 200 शक्ति का सेवन करना चाहिए। यदि किसी रोगी में भावात्मक या भावुक होने के कारण से नींद न आ रही हो तो उसके इस रोग का उपचार इग्नेशिया औषधि से करना लाभदायक होता है। हिस्टीरिया रोग के कारण से नींद न आ रही हो तो रोग का उपचार करने के लिए इग्नेशिया औषधि की 200 शक्ति का उपयोग करना फायदेमंद होता है। यदि रोगी को नींद आ भी जाती है तो उसे सपने के साथ नींद आती है, देर रात तक सपना देखता रहता है और रोगी अधिक परेशान रहता है। नींद में जाते ही अंग फड़कते हैं नींद बहुत हल्की आती है, नींद में सब-कुछ सुनाई देता है और उबासियां लेता रहता है लेकिन नींद नहीं आती है। ऐसे रोगी के इस रोग को ठीक करने के लिए इग्नेशिया औषधि का उपयोग करना उचित होता है।  मन में दु:ख हो तथा मानसिक कारणों से नींद न आए और लगातार नींद में चौक उठने की वजह से नींद में गड़बड़ी होती हो तो उपचार करने के लिए इग्नेशिया औषधि की 3 या 30 शक्ति का उपयोग करना लाभकारी है।

9. बेलाडोना –  मस्तिष्क में रक्त-संचय होने के कारण से नींद न आने पर बेलाडोना औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना चाहिए। रोगी के मस्तिष्क में रक्त-संचय (हाइपरमिया) के कारण से रोगी ऊंघता रहता है लेकिन मस्तिष्क में थाकवट होने के कारण से वह सो नहीं पाता। ऐसे रोगी के रोग का उपचार करने के लिए के लिए भी बेलाडोना औषधि उपयोगी है। रोगी को गहरी नींद आती है और नींद में खर्राटें भरता है, रोगी सोया तो रहता है लेकिन उसकी नींद गहरी नहीं होती। रोगी नींद से अचानक चिल्लाकर या चीखकर उठता है, उसकी मांस-पेशियां फुदकती रहती हैं, मुंह भी लगतार चलता रहता है, ऐसा लगता है मानो वह कुछ चबा रहा हो, दांत किटकिटाते रहते हैं। इस प्रकार के लक्षण होने के साथ ही रोगी का मस्तिष्क शांत नहीं रहता। जब रोगी को सोते समय से उठाया जाता है तो वह उत्तेजित हो जाता है, अपने चारों तरफ प्रचंड आंखों (आंखों को फाड़-फाड़कर देखना) से देखता है, ऐसा लगता है कि मानो वह किसी पर हाथ उठा देगा या रोगी घबराकर, डरा हुआ उठता है। इस प्रकार के लक्षणों से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए बेलाडोना औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना लाभकारी है।  अनिद्रा रोग को ठीक करने के लिए कैमोमिला औषधि का उपयोग करने पर लाभ न मिले तो बेलाडोना औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करें।

10. काक्युलस-  यदि रात के समय में अधिक जागने के कारण से नींद नहीं आ रही हो तो ऐसे रोगी के इस लक्षण को दूर करने के लिए काक्युलस औषधि की 3 से 30 शक्ति का उपयोग करना चाहिए।  जिन लोगों का रात के समय में जागने का कार्य करना होता है जैसे-चौकीदार, नर्स आदि, उन्हें यदि नींद न आने की बीमारी हो तो उनके के लिए कौक्युलस औषधि का उपयोग करना फायदेमंद है। यदि नींद आने पर कुछ परेशानी हो और इसके कारण से चक्कर आने लगें तो रोग को ठीक करने के लिए कौक्युलस औषधि का उपयोग करना उचित होता है।

11. सल्फर – रोगी की नींद बार-बार टूटती है, जारा सी भी आवाजें आते ही नींद टूट जाती है, जब नींद टूटती है तो रोगी उंघाई में नहीं रहता, एकदम जाग जाता है, रोगी की नींद कुत्ते की नींद के समान होती है। रोगी के शरीर में कहीं न कहीं जलन होती है, अधिकतर पैरों में जलन होती है। इस प्रकार के लक्षणों से पीड़ित रोगी के इस रोग को ठीक करने के लिए सल्फर औषधि की 30 शक्ति का प्रयोग करना फायदेमंद होता है।

12. नक्स वोमिका – रोगी का मस्तिष्क इतना कार्य में व्यस्त रहता है कि वह रात भर जागा रहता है, व्यस्त मस्तिष्क के कारण नींद न आ रही हो, मन में विचारों की भीड़ सी लगी हो, आधी रात से पहले तो नींद आती ही नहीं यादि नींद आती भी है तो लगभग तीन से चार बजे नींद टूट जाती है। इसके घंटे बाद जब वह फिर से सोता है तो उठने पर उसे थकावट महसूस होती है, ऐसा लगता है कि मानो नींद लेने पर कुछ भी आराम न मिला हो। ऐसे लक्षणों से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए नक्स वोमिका औषधि का उपयोग कर सकते हैं।
किसी रोगी को आधी रात से पहले नींद नहीं आती हो, शाम के समय में नींद नहीं आती हो और तीन या चार बजे नींद खुल जाती हो, इस समय वह स्वस्थ अनुभव करता है लेकिन नींद खुलने के कुछ देर बाद उसे फिर नींद आ घेरती है और तब नींद खुलने पर वह अस्वस्थ अनुभव करता है, इस नींद के बाद तबीयत ठीक नहीं रहती। ऐसे रोगी के रोग को ठीक करने के लिए नक्स वोमिका औषधि का उपयोग करना चाहिए।
कब्ज बनना, पेट में कीड़ें होना, अधिक पढ़ना या अधिक नशा करने के कारण से नींद न आए तो इस प्रकार के कष्टों को दूर करने के लिए नक्स वोमिका औषधि की 6 या 30 शक्ति का सेवन करने से अधिक लाभ मिलता है।

13.पल्स – रोगी शाम के समय में बिल्कुल जागे हुए अवस्था में होता है, दिमाग विचारों से भरा हो, आधी रात तक नींद नहीं आती, बेचैनी से नींद बार-बार टूटती है, परेशान भरे सपने रात में दिखाई देते हैं, गर्मी महसूस होती है, उठने के बाद रोगी सुस्त तथा अनमाना स्वभाव का हो जाता है। आधी रात के बाद नींद न आना और शाम के समय में नींद के झोकें आना, रोगी का मस्तिष्क व्यस्त हो अन्यथा साधारण तौर पर तो शाम होते ही नींद आती है और 3-4 बजे नींद टूट जाती है, इस समय रोगी रात को उठकर स्वस्थ अनुभव करता है, यह इसका मुख्य लक्षण है-शराब, चाय, काफी से नींद न आए। ऐसी अवस्था में रोगी को पल्स औषधि का सेवन कराना चाहिए।

14. सेलेनियम – रोगी की नींद हर रोज बिल्कुल ठीक एक ही समय पर टूटती है और नींद टूटने के बाद रोग के लक्षणों में वृद्धि होने लगती है। इस प्रकार के लक्षण होने पर रोगी का उपचार करने के लिए सेलेनियम औषधि का उपयोग कर सकते हैं।

15.  ऐम्ब्राग्रीशिया – रोगी अधिक चिंता में पड़ा रहता है और इस कारण से वह सो नहीं पाता है, वह जागे रहने पर मजबूर हो जाता है। व्यापार या कोई मानसिक कार्य की चिंताए होने से नींद आने में बाधा पड़ती है। सोने के समय में तो ऐसा लगता है कि नींद आ रही है लेकिन जैसे ही सिर को तकिए पर रखता है बिल्कुल भी नींद नहीं आती है। इस प्रकार की अवस्था उत्पन्न होने पर रोग को ठीक करने के लिए ऐम्ब्राग्रीशिया औषधि की 2 या 3 शक्ति का उपयोग करना लाभदायक होता है। इस औषधि का उपयोग कई बार करना पड़ सकता है।

16. फॉसफोरस –  रोगी को दिन के समय में नींद आती रहती है, खाने के बाद नींद नहीं आती लेकिन रात के समय में नींद बिल्कुल भी नहीं आती है। ऐसे लक्षणों से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए फॉसफोरस औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना फायदेमंद होता है।
वृद्ध-व्यक्तियों को नींद न आ रही हो तो ऐसे रोगी के रोग को ठीक करने के लिए सल्फर औषधि की 30 शक्ति का उपयोग करना चाहिए।
आग लगने या संभोग करने के सपने आते हों और नींद देर से आती हो तथा सोकर उठने के बाद कमजोरी महसूस होता हो तो इस प्रकार के कष्टों को दूर करने के लिए फॉसफोरस औषधि का उपयोग किया जा सकता है।
रोगी को धीरे-धीरे नींद आती है और रात में कई बार जाग पड़ता है, थोड़ी नींद आने पर रोगी को बड़ा आराम मिलता है, रोगी के रीढ़ की हड्डी में जलन होती है और रोग का अक्रमण अचानक होता है। ऐसे रोगी के इस रोग को ठीक करने के लिए फॉसफोरस औषधि की 30 शक्ति का प्रयोग करना अधिक लाभकारी है।

17. टैबेकम-  यदि स्नायविक-अवसाद (नर्वस ब्रेकडाउन) के कारण से अंनिद्रा रोग हुआ हो या हृदय के फैलाव के कारण नींद न आने के साथ शरीर ठंडा पड़ गया हो, त्वचा चिपचिपी हो, घबराहट हो रही हो, जी मिचलाना और चक्कर आना आदि लक्षण हो तो रोग को ठीक करने के लिए टैबेकम औषधि की 30 शक्ति का सेवन करने से अधिक लाभ मिलता है।

18.  ऐवैना सैटाइवा –   स्नायु-मंडल पर ऐवैना सैटाइवा औषधि का लाभदायक प्रभाव होता है। ऐवैना सैटाइवा जई का अंग्रेजी नाम है। जई घोड़ों को ताकत के लिए खिलाई जाती है जबकि यह मस्तिष्क को ताकत देकर अच्छी नींद लाती है। कई प्रकार की बीमारियां शरीर की स्नायु-मंडल की शक्ति को कमजोर कर देती है जिसके कारण रोगी को नींद नहीं आती है। ऐसी स्थिति में ऐवैना सैटाइवा औषधि के मूल-अर्क के 5 से 10 बूंद हल्का गर्म पानी के साथ लेने से स्नायुमंडल की शक्ति में वृद्धि होती है जिसके परिणाम स्वरूप नींद भी अच्छी आने लगती है। अफीम खाने की आदत को छूड़ाने के लिए भी ऐवैना सैटाइवा औषधि का उपयोग किया जा सकता है।

19. स्कुटेलेरिया – यदि किसी रोगी को अंनिद्रा रोग हो गया हो तथा सिर में दर्द भी रहता हो, दिमाग थका-थका सा लग रहा हो, अपनी शक्ति से अधिक काम करने के कारण उसका स्नायु-मंडल ठंडा पड़ गया हो तो ऐसे रोगी के इस रोग को ठीक करने के लिए स्कुटेलेरिया औषधि का प्रयोग आधे-आधे घंटे के बाद इसके दस-दस बूंद हल्का गर्म पानी के साथ देते रहना चाहिए, इससे अधिक लाभ मिलेगा।

20. सिप्रिपीडियम – अधिक खुशी का सामाचार सुनकर जब मस्तिष्क में विचारों की भीड़ सी लग जाए और इसके कारण से नींद न आए या जब छोटे बच्चे रात के समय में उठकर एकदम से खेलने लगते हैं और हंसते रहते हैं और उन्हें नींद नहीं आती है। ऐसे रोगियों के अनिद्रा रोग को ठीक करने के लिए सिप्रिपीडियम औषधि के मूल-अर्क के 30 से 60 बूंद दिन में कई बार हल्का गर्म पानी के साथ सेवन कराना चाहिए। रात में अधिक खांसी होने के कारण से नींद न आ रही हो तो सिप्रिपीडियम औषधि का प्रयोग करना चाहिए जिसके फलस्वरूप खांसी से आराम मिलता है और नींद आने लगती है।

21. कैमोमिला – दांत निकलने के समय में बच्चों को नींद न आए और जंहाई आती हो और बच्चा औंघता रहता हो लेकिन फिर भी उसे नींद नहीं आती हो, उसे हर वक्त अनिद्रा और बेचैनी बनी रहती है। ऐसे रोगियों के इस रोग को ठीक करने के लिए कैमोमिला औषधि की 12 शक्ति का सेवन कराने से अधिक लाभ मिलता है।

22. बेल्लिस पेरेन्नि स-  यदि किसी रोगी को  सुबह के तीन बजे के बाद नींद न आए तो बेल्लिस पेरेन्निस औषधि के मूल-अर्क या 3 शक्ति का उपयोग करना लाभकारी है।

23. कैनेबिस इंडिका-  अनिद्रा रोग (ओब्सीनेट इंसोम्निया) अधिक गंभीर हो और आंखों में नींद भरी हुई हो लेकिन नींद न आए। इस प्रकार के लक्षण यदि रोगी में है तो उसके इस रोग को ठीक करने के लिए कैनेबिस इंडिका औषधि के मूल-अर्क या 3 शक्ति का उपयोग करना फायदेमंद है। इस प्रकार के लक्षण होने पर थूजा औषधि से भी उपचार कर सकते हैं।

24. पल्सेटिला- रात के समय में लगभग 11 से 12 बजे नींद न आना। इस लक्षण से पीड़ित रोगी के रोग को ठीक करने के लिए पल्सेटिला औषधि की 30 शक्ति का प्रयोग करना चाहिए।

25. सिमिसि-  यदि स्त्रियों के वस्ति-गन्हर की गड़बड़ी के कारण से उन्हें अनिद्रा रोग हो तो उनके इस रोग का उपचार करने के लिए सिमिसि औषधि की 3 शक्ति का उपयोग किया जाना चाहिए।

26. साइना-  पेट में कीड़ें होने के कारण से नींद न आने पर उपचार करने के लिए साइना औषधि की 2x मात्रा या 200 शक्ति का उपयोग करना लाभदाक है।

27. पैसिफ्लोरा इंकारनेट- नींद न आने की परेशानी को दूर करने के लिए यह औषधि अधिक उपयोगी होती है। उपचार करने के लिए इस औषधि के मल-अर्क का एक बूंद से 30 बूंद तक उपयोग में लेना चाहिए।

Indian Army to appoint Homoeopathy Doctors

Indian-Army-Logo-Though-Hindi-FontThe project will begin with 10 alternative medicine specialists being assigned to four army hospitals — Base Hospital in Delhi Cantt, Military Hospital in Jalandhar and Command Hospitals at Chandimandir and Pune.

The idea behind the experiment is to see if alternative medicine can work where allopathy has no answers,” said Lieutenant General BK Chopra, director general, Armed Forces Medical Services (AFMS).

For the first time, the military is giving a chance to specialists in different forms of alternative medicine, ranging from ayurveda and naturopathy to unani and homeopathy, to treat severely-ill soldiers.

The armed forces are preparing to kick off a bold experiment to test claims made in favour of alternative medicine by throwing open the doors of some top military hospitals to doctors specialising in these remedies, India’s top military doctor has said. .

The AFMS, a cadre consisting of more than 6,000 doctors, is tying up with the ministry of AYUSH (Ayurveda, Yoga and naturopathy, Unani, Siddha and Homoeopathy) to kick-start the experiment.

The AYUSH had mooted a proposal to integrate the alternative medicine system with the conventional system, but the army suggested that a pilot project be undertaken first.

AYUSH secretary Ajit M Sharan said some forms of alternative medicine had a legacy of more than 3,000 years but had not been exploited to their full potential. “These systems can be used to supplement conventional medicine for treating different types of cancers and TB, as standalone treatment for diseases like arthritis and dementia and also as food supplements. The tie-up will benefit soldiers,” Sharan added.

As part of the experiment, the specialists will be assigned to terminally-ill patients and those with some form of cancer. General Chopra said, “We don’t have much to offer to such patients and perhaps some other treatment could work for them. Alternative medicine systems shouldn’t be written off as they have evolved over centuries.”

The scope of the project could be expanded if alternative medicine treatment proves to be effective. This would give alternative medicine practitioners a bigger platform for research and could help address some myths about the systems they practice, Chopra said. “These traditional medicine practitioners will work under the supervision of army doctors to provide the best medical care to patients. Patients will benefit if we can find scientific evidence that suggests alternative medicine can cure or curtail diseases,” he added.

http://www.hindustantimes.com/india/army-to-throw-open-doors-to-alternative-medicine/story-PfJRoliSdSvMqeYQMeGltN.html