Tag Archives: Post graduate courses in homeopathy

केन्द्रीय होम्योपैथी परिषद ने होम्योपैथी में M.D. करने के नये विकल्प दिये …

केन्द्रीय होम्योपैथी परिषद (CCH ) ने चार नये विषयों में स्नातकोत्तर डिग्री पाठ्यक्रम के मसौदे को मंजूरी दे दी और साथ ही मे सभी राज्य /संघ राज्य क्षेत्र सरकारों और विशवविधालयों से होम्योपैथी स्नातकोत्तर विनियम में प्रस्तावित संशोधनों पर अपनी टिप्पणी भेजने का अनुरोध भी किया है ।

चार नए पाठ्यक्रम

  • Anatomy
  • Physiology
  • Pathology
  • Forensic Medicine

सीसीएच के पीजी समिति ने उपरोक्त विषयों के लिए एक विस्तृत स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम तैयार किया है जो संभावित नये सत्र से लागू किया जायेगा ।

गौरतलब है कि जो पूर्व पाठयक्रम पहले से ही चल रहे हैं उनके अलावा इन पाठक्रमों का समावेश किया गया है ।

मौजूदा स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम

  • Materia Medica
  • Organon of Medicine
  • Repertory
  • Practice of Medicine
  • Pediatrics
  • Homeopathic Pharmacy
  • Psychiatry

साभार : डां मन्सूर अली : http://www.similima.com/four-new-postgraduate-courses-in-homoeopathy

संबधित पोस्ट :

Advertisements

होम्योपैथी मे MD करने के विकल्प

कुछ दिन पूर्व मुम्बई से जूही जो B.H.M.S. अन्तिम वर्ष की छात्रा हैं ,पूछा था कि B.H.M.S करने के बाद होम्योपैथी मे MD psychiatry करने के लिये क्या-2 विकल्प हैं।

जूही
hello sir..actually m a final year BHMS student..i’m intersted in doin sumthing in pschiatry after dis..cud plz guide me a little bout it n wether there’s MD psychiatry after BHMS?

जूही की तरह और भी होम्योपैथिक छात्र और कई चिकित्सक संभवत: उत्सुक होगें कि होम्योपैथी मे MD किन -2 विषयों मे और किन होम्योपैथिक मेडिकल कालेज से कर सकते हैं ।
MD ( होम्योपैथी ) 3 वर्षीय कोर्स है जो B.H.M.S करने के बाद इनमे से किसी 1 विषय मे कर सकते है
Materia Medica
Organon of Medicine
Repertory
Pharmacy
Practice of Medicine
Psychiatry
Pediatrics
MD (होम्यो) करने के लिये संबन्धित होम्योपैथिक कालेजों की लिस्ट नीचे दी गयी है । इनमे से central council ने 5 सरकरी कालेजों और 12 प्राइवेट कालेजों को अधिकृत किया है ।
सरकारी कालेज ( Govt. Colleges) :-

1-J. S. P. S. Govt. Homoeopathic Medical College, Ramanathapur, Hyderabad- University of Health Sciences, Vijaywada, Andhra Pradesh.
2-Govt. Homoeopathic Medical College, Irnamuttam, P.O. Manacaud, Thiruvananthapuram- I, – Kerala University, Thiruvananthapuram, Kerala
3-Govt. Homoeopathic Medical College, Karaparamba, Calicut, (Kozhikode)- Calicut University, Calicut, Kerala
4-Dr. Abhin Chandra Govt. Homoeopathic Medical College and Hospital, Unit- III, Kharvela Nagar, Bhubaneshwar, Distt. Puri, Utkal University, Bhubaneswar,Orissa.
5. National Institute of Homoeopathy, Block- GE, Sector- III, Salt Lake, Calcutta, Govt. of India.

प्राइवेट कालेज:
1-Bakson Homoeopathic Medical College & Hospital, (Dr. Kirpal Singh Bakshi Memorial Trust) D-6, Sector-10, NOIDA, UP- Rajasthan Vidyapeeth (Deemed University)
2-Jahangir Memorial Charitable Hospital Society Shri Sai Nath P. G. Institute of Homoeopathy, 109/4, Jawaharlal, Nehru Road, George Town, Allahabad, UP.
3-Dr. Madan Pratap Khuteta Rajasthan Homoeopathic Medical College, Vanasthali Marg, Station Road, Jaipur, Rajasthan- Rajasthan University, Jaipur.
4-Dr. M. L. Dhawale Memorial Trust, 40 Parekh Street, St. Girgaum, Mumbai- 400001, Maharasthra
5-Sonajirao Kshirsagar Homoeopathic Medical College, Vidhya Nagar, College Road (W), Beed-431122- Maharashtra University of Health Sciences, Nashik.
6. Shri Bhagwan Homeopathic Medical College and Indira Gandhi Memorial Hospital, CIDCO N- Aurangabad- 431003- Maharashtra University of Health Sciences, Nashik.
7. Kaka Saheb Mhaske Homoeopathic Medical College, Nagapur, Ahmednagar- 414111, Distt-Pune- Maharashtra University of Health Sciences, Nashik.
8. Bhartesh Homoeopathic Medical College, Dharwar Road, Belgaum- 590016, Karnataka-Rajiv Gandhi University of Health Sciences, Bangalore.
9. A. M. Shaikh Homoeopathic Medical College, Nehru Nagar, Belgaum, Karnataka- Rajiv Gandhi University of Health Sciences, Bangalore.
10-Fr. Muller’s Homoeopathic Medical College, Kankanady, Mangalore- 575002, Karnataka, Rajiv Gandhi University of Health Sciences, Bangalore.
11. Homoeopathic Medical College and Hospital, Medical College Campus, Gulbarga-585105, Karnataka – Rajiv Gandhi University of Health Sciences, Bangalore.
12. Dr. V. H. Dave Homoeopathic Medical College and Smt. S. I. Patel(Ipcowala) Homoeopathic Hospital, Hahnemann House, Amul Dairy Road, Anand- 388001, Dist- Kheda, Gujarat- Sardar Ballabh Bhai Patel University, Ballabh Vidhya Nagar

चलते-२ ताजा खबर :
दैनिक जागरण दिनाकं ९-६ -२००७

अब ऊत्तर प्रदेश मे भी पी जी के लिये रास्ता साफ़ ;देखें खबर , “26 साल बाद याद आये होम्यो कालेज

लखनऊ, 8 जून (जागरण ब्यूरो) : प्रांतीयकरण के छब्बीस साल बाद अंतत: सरकार ने बदहाल होम्योपैथिक कालेजों की सुध ली। सात राजकीय कालेजों में केंद्रीय होम्योपैथी परिषद (सीसीएच) के मानकों के अनुरूप शिक्षकों के 194 तथा शिक्षणेत्तर स्टाफ के 404 नये पद सृजित किये गये हैं।
शिक्षकों के अभाव में इन कालेजों की बीएचएमएस डिग्रियों की मान्यता पर हमेशा सीसीएच की तलवार लटकी रहती थी। बहरहाल, पर्याप्त पद सृजन के बाद लखनऊ, कानपुर और इलाहाबाद होम्योपैथिक कालेजों में पीजी पाठ्यक्रम शुरू होने का भी मार्ग प्रशस्त हो गया है। प्रदेश में सात राजकीय होम्योपैथिक कालेज लखनऊ, कानपुर, इलाहाबाद, मुरादाबाद, फैजाबाद, गाजीपुर और आजमगढ़ में हैं। प्रदेश सरकार ने 1981 में इन कालेजों का निजी क्षेत्र से प्रांतीयकरण किया था लेकिन मानकों के अनुरूप शिक्षकों व गैर शिक्षकों के पद सृजित नहीं किये। केंद्रीय होम्योपैथी के मानकों के हिसाब से प्रत्येक कालेज में तेरह प्रोफेसर तथा पंद्रह-पंद्रह रीडर व लेक्चरर के हिसाब से 43 शिक्षक होने चाहिये। जाहिर है कि सात कालेजों में 91 प्रोफेसर, 105 रीडर तथा 105 लेक्चरर सहित कुल 301 शिक्षक होने चाहिए। इसके विपरीत इन कालेजों में सिर्फ 146 पद स्वीकृत थे। इनमें प्रोफेसर और रीडर के सिर्फ दस-दस पद थे यद्यपि लेक्चरर के मानक से कहीं अधिक 126 पद स्वीकृत थे। यह अलग बात है कि इस समय सिर्फ दो प्रोफेसर, तीन रीडर तथा 75 लेक्चरर ही कार्यरत हैं। जाहिर है कि 301 के मानक के विपरीत सिर्फ 80 शिक्षक कार्यरत हैं। कमोबेश ऐसे हालात पिछले छब्बीस सालों से जारी थे। इन हालात में केंद्रीय होम्योपैथिक परिषद पिछले कई सालों से मानकों के अनुरूप पद सृजित करने के लिए दबाव डाल रही थी। मौजूदा कार्यवाही सीसीएच के दबाव का ही नतीजा है। सरकार ने प्रोफेसर के 81 तथा रीडर के 95 नये पदों के अलावा लखनऊ, कानपुर व इलाहाबाद कालेजों में परास्नातक पाठ्यक्रम शुरू करने के मानकों की पूर्ति करते हुए प्रोफेसर व रीडर के नौ-नौ अन्य पद सृजित किये हैं। प्रदेश के किसी भी राजकीय कालेज में फिलहाल पीजी पाठ्यक्रम नहीं चल रहे हैं। इसी के साथ सरकार ने इन कालेजों से सम्बद्ध अस्पतालों के संचालन के लिए चिकित्साधिकारियों, पैरा मेडिकल कर्मचारियों तथा गैर चिकित्सीय स्टाफ के भी 404 पद सृजित किये हैं। क्लीनिकल प्रशिक्षण की दृष्टि से सम्बद्ध अस्पताल किसी भी मेडिकल कालेज का अपरिहार्य अंग होते हैं।
वास्तव में अस्पताल की स्थापना बगैर कालेज संचालन की अनुमति ही नहीं मिलती लेकिन प्रदेश के किसी भी राजकीय होम्योपैथिक कालेज में इनडोर विभाग नहीं थे। बहरहाल, अब सूरत-ए-हाल बदलने की उम्मीद जगी है।

updated 11-6-2007