भूजल मे आर्सेनिक विषाक्तता– क्या होम्योपैथिक औषधि “ आर्सेनिक ऐलब्म “ आर्सेनिक प्रदूषित जल से उत्पन्न हुये रोगों की विकल्प औषधि होगी (Can Homeopathic Arsenic Remedy Combat Arsenic Poisoning in Humans Exposed to Groundwater Arsenic Contamination?: A Preliminary Report on First Human Trial )

साभार : आक्सफ़ोर्ड जर्नल (oxford journal )

 

चित्र को साफ़ और बडॆ आकार मे देखने के लिये चित्र पर किल्क करें ।

भूजल मे आर्सेनिक विषाक्तता – भारत जैसे करीब  बीस  देशों की एक त्रासदी ही है । पशिचम बंगाल और उससे सटे बाँगला देश के कई गाँवों के लोगों का जीवन आर्सेनिक संकर्मित जल ने भयकर रुप से रोगग्रसत कर दिया है । पूरे विशव मे करीब बीस मिलियन लोग इससे प्रभावित है , कई तरीकों से इससे उत्पन्न हुये रोगों से निजात पाने की चेष्टा की गयी लेकिन अभी तक कोई ठॊस परिणाम सामने नही आये हैं । आरेसेनिक संक्रमण से  त्वचा का कैन्सर , केरोटोसिस [keratoses] जैसी समस्यायें उत्पन्न हो सकती  हैं । आर्सेनिक विषाक्तता के अन्य लक्षणॊ  मे गर्दन में कडापन और जकड़न की भावना, प्यास, स्वर बैठना और बोलने  मे कठिनाई,  उल्टी हरे या पीले रंग के, कभी कभी खून से धारीवाले, मरोड के साथ दस्त, मूत्र अंगों मे कभी कभी तेज जलन और दर्द, और अंत मे मौत का कारण भी आरेसेनिक बन सकती है ।

  कल्याणी विशवविधालय और बिधन चन्द्र कृषि विशव्विधालय के शोधकर्ताओं जिनमे अनीसुर खुदाबक्श , सुजीत गुहा , नन्दिनी भट्टाचार्य आदि ने आरेसिन्क प्रदूषित जल से प्रभावित रोगियों पर होम्योपैथिक आरेसिन्क ३० का प्रयोग करके उससे उत्पन्न निष्कर्षो  को जानने की चेष्टा की और परिणाम बेहद उत्साहजनक निकले । उत्पन्न निष्कर्षो को जानने के लिये रोगियों को तीन माह तक आर्सेनिक ३० पर रख कर ईन्जाइम और रक्त के कई परीक्षण जैसे amino transferase, alanine amino transferase, acid phosphatase, alkaline phosphatase, lipid peroxidation और  reduced glutathione द्वारा  मानीटर किया गया ।

डाऊनलोड लिंक  (Download Link ):

                                                    Link 1

                                                    Link 2

Can Homeopathic Arsenic Remedy Combat Arsenic Poisoning
in Humans Exposed to Groundwater Arsenic Contamination?:
A Preliminary Report on First Human Trial
Anisur Rahman Khuda-Bukhsh1, Surajit Pathak1, Bibhas Guha1, Susanta Roy KarmakarJayanta Kumar Das1, Pathikrit Banerjee1, Surjyo Jyoti Biswas1, Partha Mukherjee,Nandini Bhattacharjee1, Sandipan Chaki Choudhury1, Antara Banerjee1, Suman Bhadra,Palash Mallick, Jayati Chakrabarti and Biswapati Mandal
Department of Zoology, University of Kalyani and
Directorate of Research, Bidhan Chandra Krishi Viswavidyalaya,
Kalyani-741235, West Bengal, India

Groundwater arsenic (As) has affected millions of people globally distributed over 20 countries. In parts of West Bengal (India) and Bangladesh alone, over 100 million people are at risk, but supply of As-free water is grossly inadequate. Attempts to remove As by using orthodox medicines have mostly been
unsuccessful. A potentized homeopathic remedy, Arsenicum Album-30, was administered to a group of As affected people and thereafter the As contents in their urine and blood were periodically determined. The activities of various toxicity marker enzymes and compounds in the blood, namely aspartate
amino transferase, alanine amino transferase, acid phosphatase, alkaline phosphatase, lipid peroxidation and reduced glutathione, were also periodically monitored up to 3 months. The results are highly encouraging and suggest that the drug can alleviate As poisoning in humans.

Download Link :

                                                   Link 1

                                                    Link 2

Keywords: arsenic toxicity – Arsenicum Album-30 – enzyme biomarkers – homeopathy –
human trial – remedy

Digg This

4 responses to “भूजल मे आर्सेनिक विषाक्तता– क्या होम्योपैथिक औषधि “ आर्सेनिक ऐलब्म “ आर्सेनिक प्रदूषित जल से उत्पन्न हुये रोगों की विकल्प औषधि होगी (Can Homeopathic Arsenic Remedy Combat Arsenic Poisoning in Humans Exposed to Groundwater Arsenic Contamination?: A Preliminary Report on First Human Trial )

  1. यदि किसी बीमारी के लिए होम्‍योपैथी में उपयुक्‍त दवाइयां हो तो न सिर्फ उसका प्रयोग किया जाना चाहिए , वरन समय समय पर और रिसर्च कर इसे और प्रभावी भी बनाया जाना चाहिए !!

  2. अच्छा जानकारी परक लेख!

  3. सर जी यदि ये बाते हमारे देश के कर्णधारो के मस्तिस्क मे घर कर जाये की सिर्फ एलॉपथी देश का भला नहीं कर सकती ,और वो देश मे आयुर्वेद तथा होम्योपेथी की सस्ती और सुलभ दवाओ का परचार परसर करने की सरकारी कोशिश करे तो हमारा देश बीमारियो से पूरी तरह लड़ सकता है ,
    बहुत आभार आप का इस जानकारी को बताने का

  4. पिंगबैक: Scientific Research in Homeopathy Triple Blind studies, Double-Blind Randomised Placebo-Controlled Trial, Systematic Reviews & Meta Analysis, Evidence-base | होम्योपैथी-नई सोच/नई दिशायें

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s