होम्पैथ क्लासिक 8 साफ़्ट्वेएर- मुसीबतों का अन्त नहीं

 
लगता है कि डा जवाहर शाह और मेरे मध्य छतीस का आंकडा बन चुका है। पिछला पंगा बडी मुशिकल से समाप्त हो ही पाया था और अब यह नया पंगा शुरु हो गया। अब की समस्या इस साफ़्ट्वेएर के PMS यानि patient management system को लेकर है। कई खूबियों के होते हुये भी मै इस साफ़्ट्वेएर के निर्माताओ की कार्य प्रणाली से बिल्कुल भी सन्तुष्ट नही हूँ। मेल पर मेल भेजे जाओ पर जबाब देना उचित नही समझते, Hpathy.com और otherhealth.com पर शिकायतों के पुलिन्दे इकट्ठा हो चुके हैं । लेकिन साफ़्ट्वेएर निर्माता इस बात को नही समझते कि उनके द्वारा प्रदान की गयी सर्विस उनके उत्पाद को कसौटी पर परखने मे सिद्द होते हैं।
समस्या है क्या ?

नीचे दिये गये चित्र इस समस्या को ठीक से समझा सकते हैं।
classic 8
cl
ऊपर आकृति को गौर से देखें:

  • 26-1-2007 को रोगी दिखाने के लिये आया। देखें करसर नं-1
  • पिछली बार रोगी 15-1-2007 को आया था। देखें करसर नं-2
  • चूँकि रोगी को पिछली औषधि से आराम था, इसलिये यह औषधि को दोबारा repeat करना था।
  • इसलिये copy presc को किल्क किया गया। देखें करसर नं-3
  • लेकिन यह क्या, यह तो 15-5-2006 की औषधि को repeat कर रहा है, जब कि मुझे 25-12-2006 की औषधि को देना था।
  • यह क्यों हुआ? इसका कारण साफ़्ट्वेएर तारीखों को गलत ले रहा है। इसको 19-1-2007 की पूर्व तिथि 15-1-2007 को दिखाना चाहिये था, जबकि यह 1-7-2006 को दिखा रहा है।

शुरू -2 तो मुझे लगा यह परेशानी कम्पयूटर मे शायद वाइरस की वजह से हो, वाइरस स्कैन किया , कुछ नही निकला। परसों सोचा कि और चिकित्सकों से भी सम्पर्क किया जाय जो इस साफ़्ट्वेएर को प्रयोग कर रहे हैं और कमोबक्श सब चिकित्सकों की तकलीफ़ PMS को लेकर ही निकली। कल लखनऊ से ही डा पियूष पान्डे जी ने भी इसी समस्या की ओर अपना नजरिया स्पष्ट किया ।
इसी समस्या को लेकर मैने होम्पैथ के ऊतर पदेश वितरक डा पुष्कर से बात की , हर बार की तरह उनका रविया टालू रहा, आने का आशवासन देकर उन्होने तो मेरे कम्पयूटर की यादशात को ही गडबड ठहरा दिया। ( low memory। इस ब्लाग पर इस समस्या को लाने का मेरा कोई इरादा नही था लेकिन अब मुझे लगने लगा है कि पानी सर से ऊपर गुजर चुका है, एक दो दिन मे फ़िर Hpathy forum और otherhealth के forum मे दोबारा जाने का इरादा बना लिया है।
जवाहर शाह जी, समस्यायें तो सब के साथ आती रहती हैं लेकिन उनका समाधान तो दीजिये, आज 15000 रू लगाने के बाद दूसरे साफ़्टवेएर मे जाने की हिम्मत नही। हाँ, रडार(Radar) दूसरा और अच्छा विकल्प है, कम से कम रडार समय -2 पर लगातार अपडेटस दे कर बग्स (bugs)और दूसरी समस्याओ को दूर तो करता रहता है लेकिन उसको लेने के लिये भी कम से कम 25000/- का चूना तो लगेगा ही। आप देगें क्या?

10 responses to “होम्पैथ क्लासिक 8 साफ़्ट्वेएर- मुसीबतों का अन्त नहीं

  1. डा जवाहर साह का काम सिर्फ साफ़्ट्वेयर बेचना है. AFTER SALE SERVICE को वे जरुरी नही समझते है. आपका पैसा उनकी जेब मे आ गया …… उनका काम खतम…

    RADAR IS A GOOD HOMOEOPATHIC SOFRWERE … मै अपने मित्रो को राडार खरिदने की सलाह देता हु.

  2. लगता है इस सेजमेन्ट में कोई सस्ता मगर अच्छा सौफ़्ट्वेयर लाना ही पढेगा. 15000 किसी भी सौफ़्टवेयर के लिये ज्यादा रकम है. उस जमाने में तो ठीक था जब कम्प्यूटर काफ़ी कम संख्या में थे. आज एक एक सौफ़्टवेयर हजारों की संख्या में बिकता है.

    प्रभात जी, आपके नजरिये से एक बेहतर होमपैथ क्लासिक से काफ़ी बेहतर बग रहित सौफ़्टवेयर की कम से कम किसत्नी कीमत होनी चाहिये?

  3. Dear Sir,

    Please let me know your contact telephone nos. to speak to you regarding your problem.

    Thanking you,
    Yours Sincerely,

    Ajikumar.P
    (Administrator, Hompath Software)

  4. I have been encountering this problem with the follow up of Hompath classic 8.o from the very begining .My mail to makers of classic went unreplied.The ideal at Hompath seems to be sell your product and forget the customer.
    The prices of this software went down from 20,000/-to 13,000 for what reason ??

  5. Actually I was a user of RADAR and faced similar problem, but now after shifting to Hompath I have no problems.

  6. I do not know what to say about Dr.Kanan’s assertion,he is lucky that he is not facing not problem with the software.But one of my friends apart from Dr.Prabhat Tandon is also facing the same problem

  7. @ DR PRAVIN GOSWAMI और @ मै.श.गुप्ता ,

    क्लसिक होम्पैथ के निर्माताओं द्वारा प्रदान सर्विस की समस्या को छोडकर मुझे इस साफ़्टवेएर मे और कोई गडबडी नही दिखती । यह एक बेहतरीन और user friendly साफ़्टवेएर है ।आज की व्यवसायविकता के दौर मे होम्पैथ के निमाताओं को अपनी कार्य प्रणाली को अपने उपभोक्ताओं के समक्ष और अधिक व्यावहारिक करना होगा।

    रही बात साफ़्टवेर्र की कीमतों की तो इस समय अधिकतर होम्योपैथिक साफ़्टवेएर 6000 से 30000 के बीच मे आ रहे हैं। जो पुरानी होम्योपैथिक रिपर्टरी जिनके कापीराइट नही है इनकी ही कीमत कम है पर जहाँ नई रिपर्टरी का समावेश हुआ है जैसे कम्पलीट – होम्पैथ मे और सिन्थीसस (Synthesis repertory ) और विठलिकोस ईलक्ट्र्निक सिस्टम (V.E.S.)- रडार मे , जो कापीराइट कानून के अंतर्गत आते हैं , उनकी कीमते काफ़ी अधिक हैं। क्लासिक होम्पैथ मे 29 रिपरटरी का समावेश है जिनमे शायद कम्पलीट ही कापीराइट कानून मे आती है।

    @ Hompath और @ Dr Piyush

    डा पियूष जी ,कल शाम को डा जवाहर शाह जी और उनके adminstrative officer से मेरी बात हुयी, आप दोनो के अनुसार इस समस्या का कारण xp ser pack 2 और पहले वाले बगैर sएrvice pack का होना है। क्योकि जब यह साफ़्टवेएर शुरु-2 रिलीज हुआ था तब ser pack नही हुआ करते थे। उनके अनुसार यही एक प्रमुख कारण है। वह साफ़्टवेएर की अपडेट्ड सी डी भेजने को तैयार है और भी इनकी कई शिकायते मुझसे रही जैसे इस पोस्ट को नेट मे क्यूं डाल दिया आदि -2 , इसको मै तफ़सील से दूसरी पोस्ट मे साफ़्टवेएर मिलने के बाद लिखूगां।

    लेकिन कुछ सवाल जो इस पोस्ट के माध्यम से यहाँ उठाना चाहता हूँ वह निम्म हैं-

    जब यह आप को अच्छी तरह से मालूम था कि यह xp ser pack का चक्कर है तो मैने तो साफ़्ट्वेएर अप्रैल 2006 मे लिया था जब तब कि अधिकाश कम्पयूटर मे xp ser pack 2 ही इन्सटाल हैं और अगर ऐसा कोई चक्कर था तो कम से कम आप को अपने उपभोक्ताओं को बताना तो चाहिये था ।
    आप कहते हैं कि मुझे टेलिफ़ोन से कम से कम आप को समस्या के बारे मे बताना चाहिये था, हो सकता है कि आप को मेरा मेल न मिला हो या स्पाम मे चला गया हो लेकिन क्या लखनऊ मे होम्पैथ के वितरक डा आरविन्द पुष्कर , जिनको मै पूरी बात बता चुका था क्या उनको आप को पूरी बात की सूचना नही देनी चाहिये थ?
    आपने साफ़्टवेएर बेचने के बाद अब तक कितने चिकित्सकों से सम्पर्क किया कि वह किसी मुशिकल मे तो नही हैं?
    मुझे टेलीफ़ोन न आपका नही मालूम अगर आप समय-2 पर अपने उपभोकताओं से सम्पर्क करते रहते तो मुझे इसको नेट पर डालने की बात नही सोचनी पडती।

    @ Dr Kannan

    आप की किस्मत अच्छी है इस लिये आप को बधाई।

  8. Dear Dr. Prabhat,
    ( via e-mail )

    Sujeet will do needful and help you to solve the problem.

    Thanking you with regards,

    Yours sincerely,

    Dr. Jawahar Shah

  9. Now that Dr.Jawahar shah has himself promised to look into the matter. I feel Dr.Prabhat’s की भी किस्मत अच्छी है.
    Sorry my Hindi is not so good, especially when typing.

    Anyway wishing you all the luck.

  10. पिंगबैक: होम्पैथ क्लासिक 8 -समस्या का सुखद अंत « होम्योपैथी-नई सोच/नई दिशायें

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s