Coronavirus with Robin Murphy – Part 3

The Symptoms, Effects and Treatments for Acute Respiratory Distress

Webinar Recording – Coronavirus Part 3

 

Download slides : Original Link

Link 2 : alternate link

Powerpoint  : https://tinyurl.com/yb27w7gz

Covid-19 can lead to Acute respiratory distress syndrome (ARDS).

ARDS is a type of respiratory failure characterized by rapid onset of widespread inflammation in the lungs. Symptoms include shortness of breath, rapid breathing, and bluish skin coloration. 

For those who survive, a decreased quality of life is common.

Join Dr Robin Murphy and CHE for Coronavirus part 3 to learn more about the coronavirus and discuss how we homeopaths can help combat the current pandemic.

In this webinar, Dr Robin Murphy will cover:

1. Covid-19 Info and Updates part 3

2. ARDS: Acute Respiratory Distress Syndrome

3. Clinical Homeopathy: Case Management for ARDS

4. Homeopathic Remedies for ARDS

5. Homeopathic Repertory for ARDS

6. Natural Remedies for Acute Respiratory Distress Syndrome

About the presenter

Dr Murphy

Dr Robin Murphy ND is a naturopathic and homeopathic physician who has been teaching and practising homeopathy, natural medicine, Tai Chi and Qigong for over 30 years.

Dr Murphy is an internationally recognized author, researcher and lecturer on homeopathy, herbs and medical Qigong.

He wrote the Homeopathic Clinical Repertory and Nature’s Materia Medica.

He is the Director of the Lotus Health Institute in Blacksburg, Virginia.

Related Posts :

Coronavirus in Mumbai: Civic hospital dean bats for homeopathic medicine

Coronavirus in Mumbai: Civic hospital dean bats for homeopathic medicine

By Vikas Nag

Says 24 COVID-19 patients who were given Zincum Muriaticum, recovered before others

 

Coronavirus in Mumbai: Civic hospital dean bats for homeopathic medicine

Source : https://www.freepressjournal.in/mumbai/coronavirus-in-mumbai-civic-hospital-dean-bats-for-homeopathic-medicine

Mumbai: In a letter addressed to the Director of the Central Council of Homeopathy (CCH) in New Delhi, the Dean of Seven Hills Hospital in Marol – a municipal hospital serving as a COVID-19 isolation hospital – has said that homeopathic medicine Zincum Muriaticum, at a dilution of 200 C, was given to some COVID-19 patients at the hospital, and that the recovery of these patients was a day or two earlier than other COVID-19 patients.

Joshi has also sought permission from the Director of the CCH – which is a statutory body under the Ministry of AYUSH – to administer the same medication to more COVID-19 patients at the hospital. In his letter, dated April 21, the Dean of Seven Hills wrote, “This is with regards to the use of homeopathic medicines Zincum Muriaticum 200c (Four pills three times a day). When we used this above mentioned homeopathic medication to the COVID-19 positive patients in the SevenHills COVID-19 isolation hospital, Mumbai, it was observed that the recovery of patients was a day or two before other positive patients.”

“We have used this medication for 24 patients, wherein the above outcome was observed. This will be followed with more number of patients with your permission,” Joshi’s letter states. When contacted, Joshi told The Free Press Journal: “I believe in homeopathy, and I have trust and faith in this. I have given it to some of the patients, and the results were effective.”

“I have heard that the ministry is also looking into it, and has said that practitioners of other streams of medicine can also come forward if they have any ideas on how to cure coronavirus patients. I am aware that discussions are on with the central government, and that a letter has been sent in this regard by the Dean”, said Daksha Shah, Deputy Executive Health Officer, Brihanmumbai Municipal Corporation (BMC).

There is no vaccine or specific treatment proven to prevent or cure Covid-19 currently. Doctors in Mumbai have had a fair measure of success in curing patients with a combination of drugs used to treat swine flu, malaria, and HIV. For want of a specific vaccine or medication for Covid-19, doctors have been forced to fall back on hydroxychloroquine, oseltamivir, and Lopinavir and other medicines as the course of treatment so far. The same line of treatment is being used for patients ranging in age between 35 and 70. The treatment protocol of some of the cured patients shows that this cocktail of drugs has been successful in fighting the virus.

Govt of Delhi issued an advisory to utilise homoeopathy in Covid 19 prevention and treatment

NHMC DELHI

Govt of Delhi issued an advisory to utilise homoeopathy in Covid 19 prevention and treatment and adopted Nehru Homoeopathy Medical College as the centre of treatment

Government of the National Capital of Delhi issued an advisory to utilise homoeopathy and other Ayush systems in the prevention and treatment of Covid 19 

All the DM’s/CDMOs/MSs looking after the Hot spots, CTC, CCC and CH are hereby directed to facilitate the incorporation of AYUSH systems as per the advisory of Ministry of AYUSH, Government of India that includes changes in the diet of COVID patients, using their drugs in addition to the standard protocol being followed in the prevention and management of COVID pandemic. 

These initiatives shall be executed by the AYUSH doctors being posted in the field. All these activities shall be supervised by Dr Raj K Manchanda, Director, Directorate of AYUSH, Govt. of NCT of Delhi (email: directorateofismh@gmail.com). 

Earlier Govt of Delhi adopted Nehru Homoeopathy Medical College as the centre for Covid 19 treatment and posted Homoeopathy doctors of BR Sur Homoeopathy Medical College and Nehru Homoeopathy Medica College.

Download Delhi Govt order utilising AYUSH

Treatment centres in Delhi including NHMC

Courtesy : https://www.homeobook.com/govt-of-delhi-issued-an-advisory-to-utilise-homoeopathy-in-covid-19-prevention-and-treatment/

Short-term research projects for evaluating the impact of AYUSH interventions/ medicines in the prophylaxis and clinical management of COVID-19

With special thanks to Homeobook.com

All the institutions/hospitals engaged in the prophylactic treatment and clinical management of COVID-19 please submit the evaluation

Ministry of AYUSH with an intention to support short-term research proposals for evaluating the role and impact of AYUSH interventions/medicines in the prophylaxis and clinical management of SARS-CoV-2 infection and COVID-19, has designed a mechanism for the same. This mechanism is a modification of the existing EMR Scheme, to the extent as detailed in the Annexure-II of this OM. 

2. In order to expedite receipt of proposals from eligible institutions/hospitals, a notification is enclosed along with application format (Annexure with three Appendices). 

All the concerned offices are requested to circulate this OM and annexure to all the institutions/hospitals engaged in the prophylactic treatment and clinical management of COVID-19 cases and give it wide publicity.

Download Order 

 Call_for_Research_Proposals_on_AYUSH_Interventions

Symptomatic COVID-19 positive and likely patients treated by homeopathic physicians – an Italian descriptive study Report

coronavirus-no-creado-laboratorio

Symptomatic COVID-19 positive and likely patients treated by homeopathic physicians – an Italian descriptive study Report

by Andrea Valeri , SIMO – Società Italiana di Medicina Omeopatica

In Italy most positive and probable COVID-19 patients are at home if their clinical situation is mild. A group of homeopathic physicians treated 50 patients.The study describes their hospitalization rate, clinical evolution, homeopathic medicines used and gives an updated picture of use, limitations and perspectives of classical homeopathy in COVID-19 extrahospital patients .

From 25 February to 7 April 2020 we collected 50 symptomatic case reports in home isolation, positive or probable COVID-19, followed by the family doctor and, since the patients requested it, also by a physician expert in homeopathy. The patients were in isolation in different Italian locations.

The classification to which this study adheres is the 16sixth WHO classification which is the basis of the classifications of the various Ministries of Health. It divides patients, compared to the diagnosis of COVID-19, into “suspected”, “probable” and “confirmed” cases. Confirmed cases are those found positive to the nucleic acid enlargement method, usually by pharyngeal buffer. Since in the Italian epidemic emergency it is not possible to perform swabs in all suspected cases – and this leads to diagnostic uncertainties -, in order to try to increase diagnostic accuracy we have chosen to qualitatively implement the WHO guidelines with clinical and anamnestic parameters (see below).

The clinical records we considered includes 10 confirmed symptomatic patients for COVID-19 and 40 probable symptomatic patients semeiologically similar to the previous ones.

A total of 24 homeopaths were involved. They are clinicians with extensive experience in homeopathy and are all registered in the lists of homeopathic medical experts with the respective Orders of Physicians and Surgeons.

Each doctor involved in the project was required to send all consecutive cases under treatment, whatever the outcome of the treatment implemented.

Homeopathic treatment was provided by telephone or video-telephonically for safety reasons for both the patient and the doctor.

During homeopathic treatment, patients have continued to take any previous chronic therapies in progress in addition to the treatment prescribed by their family doctor.

We specify that the conventional treatment did NOT include specific treatments for this type of COVID-19 patients, apart from the indication to consider the use of paracetamol in case of high fever.

Patients have been homeopathically treated with prescribed single homeopathic remedies (described with a single latin name, eg Phosphorus flavus) according to their individual clinical course. The details of homeopathic treatment, summarised here, will be specified in a subsequent study .

Results:

We publish the results of the 50 individual cases received corresponding to the inclusion criteria, evaluated at the end of the treatment without waiting for a further follow-up. The 50 cases examined consisted of 29 females and 20 males (in one case the gender was not specified).

In the 4 paediatric cases (years 6-9), the average age was 6.75 years; their course lasted on average 10 days (from 3 to 17).

In adulthood (the cases observed were between 22 and 79 years old), the average age was 49.47 years; their course (varying from 4 to 34 days) was 14.09 days on average

In each individual case only one single-component homeopathic medicinal product has been diagnosed and prescribed at a time with only one potency, chosen individually according to the symptoms presented18

During the same homeopathic treatment a single medicine (50% of cases) was used, i.e. a sequence of 2 to 6 different medicines and specifically: 2 remedies (32%), 3 remedies (10%), 6 remedies (4%), 4 remedies (2%), 5 remedies (2%).

The prescribed medications were, in order of frequency: Bryonia alba (21 times); Arsenicum Album(16 times); Phosphorus flavus(9 times); Atropa belladonna (6 times); Antimonium tartaricum (6 times); Eupatorium perfoliatum (4 times); Phosphoricum acidum (3 times); unspecified patient’s
basic remedy (3 times); Lycopodium clavatum(3 times); Sulphur (3 times); Hepar sulphur. (2 times); Kalium phosphoricum (2 times); Gelsemium sempervirens(2 times); Mercurius solubilis, Chelidomum majus, Spigelia anthelmia, Solanum dulcamara, Psorinum, Spongia tosta, Ferrum
phosphoricum, Ruta graveolens, Causticum hahnemanni, Thuya occidentalis, Streptococcinum, Ignatia amara (once each).

To see what is the outcome , follow the links below

Download  COVID-19 patients treated by homeopathic in italy.pdf

Web Link  : ResearchGate

Homeopathy Covid 19 – India Today

Coronavirus with Robin Murphy -Part 2

Coronavirus with Robin Murphy – Part 2

The symptoms, effects and treatments for viral and epidemic pneumonia

Due to the many questions around the spread of the coronavirus, Dr Robin Murphy and CHE have decided to create another free webinar and help bring all homeopaths together to learn more about the coronavirus and discuss how to combat the current pandemic.

In this webinar, Dr Robin Murphy will cover: 

 1. Novel Coronavirus Info and Updates: Part 2

2. Clinical Homeopathy: Epidemic Prescribing

3. Homeopathic Remedies for the Psychological Epidemics

4. Homeopathic Remedies for the Respiratory System

5. Medical Qigong for the Respiratory and Immune Systems

6. Superfoods and Herbal Tonics for the Respiratory System

7. Home Therapies and Preventions for Colds, Flu and Pneumonia

WATCH WEBINAR RECORDING

Webinar Recording – Coronavirus Part 2  

 

About the presenter

 

Dr Murphy

Dr Robin Murphy ND is a naturopathic and homeopathic physician who has been teaching and practising homeopathy, natural medicine, Tai Chi and Qigong for over 30 years.

Dr Murphy is an internationally recognized author, researcher and lecturer on homeopathy, herbs and medical Qigong.

He wrote the Homeopathic Clinical Repertory and Nature’s Materia Medica.

He is the Director of the Lotus Health Institute in Blacksburg, Virginia.

Cuba to officially use new homeopathic medicine PrevengHo® Vir against COVID-19

Santa Clara, Cuba, April 3,2020 (Prensa Latina):

The homeopathic medicine Prevengho-VIR was being administered as a measure to confront the COVID -19 in this province of Central Cuba.

prevengh-1


Dr Mirtha Rosa Hernandez
, Head of the Department of the Elderly in Villa Clara, reported that the supply of the preparation began in the Grandparents’ Homes and Elderly Homes of the territory, which has 184,000 people over 60 years old, 23.9 percent of the local universe. The medicine is administered by doctors and nurses of the basic working group where the Grandparents’ Homes and Nursing Homes are located in the 13 municipalities of this province.
This homeopathic medicine comes in a 10-milliliter bottle, and the daily dosage is 5 drops, thrice a day; while on the tenth day a reactivation of the initial dose is performed. It is aimed at preventing the respiratory diseases in this risk group, in addition to other medical conditions, such as dengue.
In the upcoming days it will be extended to the Maternal Homes. It is administered by the doctors and the nurses from the basic work group of the senior homes.
She said, that besides avoiding the new Coronavirus the formula is also aimed at preventing respiratory diseases in this risk group, in addition to others such as dengue fever.
This medicine can also be administered to children under 10 years old, pregnant women, nursing mothers, and patients with liver disorders.


Combination Medicine: It contains SEVEN DRUGS, Anas berberiae 200, Baptisia tinctora 200, Bacillinum 30, Pyrogenum 200, Eupatorium perf 200, Influezinum 200 and Arsenicum Album 200!

Source:

 

How to Prepare WHO-recommended hand sanitizers for combating COVID19

Coronavirus corona virus prevention travel surgical masks and hand sanitizer gel for hand hygiene sp

A cheap & effective  WHO-recommended handrub formulations  .

How to prepare :

12.1.1. Suggested composition of alcohol-based handrub formulations for local production

The choice of components for the WHO-recommended handrub formulations takes into account cost constraints and microbicidal activity. The following two formulations are recommended for local production with a maximum of 50 litres per lot to ensure safety in production and storage.

Formulation I

To produce final concentrations of ethanol 80% v/v, glycerol 1.45% v/v, hydrogen peroxide (H2O2) 0.125% v/v.

Pour into a 1000 ml graduated flask:

  1. ethanol 96% v/v, 833.3 ml
  2. H2O2 3%, 41.7 ml
  3. glycerol 98%,14.5 ml

Top up the flask to 1000 ml with distilled water or water that has been boiled and cooled; shake the flask gently to mix the content.

Formulation II

To produce final concentrations of isopropyl alcohol 75% v/v, glycerol 1.45% v/v, hydrogen peroxide 0.125% v/v:

Pour into a 1000 ml graduated flask:

  1. isopropyl alcohol (with a purity of 99.8%), 751.5 ml
  2. H2O2 3%, 41.7 ml
  3. glycerol 98%, 14.5 ml

Top up the flask to 1000 ml with distilled water or water that has been boiled and cooled; shake the flask gently to mix the content.

Only pharmacopoeial quality reagents should be used (e.g. The International Pharmacopoeia) and not technical grade products.

For more details , Click HERE to read the post .

or

visit https://www.ncbi.nlm.nih.gov/books/NBK144054/ to read the details .

डॉ. क्रिश्चियन फ्राइडरिक सैमुअल हैनिमेन- जन्म दिवस पर विशेष ( A Tribute to Dr Samuel Hahnemann )

१० अप्रेल २००९ में लिखी हुई यह पोस्ट कल भी सामायिक थी ,आज भी है और कल भी रहेगी। विषम परिस्थितयॊं मॆ होम्योपैथी का उद्‌गम और उसकी यात्रा न सिर्फ़ गर्व का अनुभव कराती है बल्कि उस महान चिकित्सक के प्रति नतमस्तक होने के लिये प्रेरित करती है । देखॆ पुरानी पोस्ट डॉ. क्रिश्चियन फ्राइडरिक सैमुअल हैनिमेन- जन्म दिवस पर विशेष ( A Tribute to Dr Samuel Hahnemann )


इतिहास के चन्द पन्नों को समटेने की कोशिश करते हुये आँखे नम सी हो जाती हैं । मेरे सामने ब्रैडफ़ोर्ड की ” लाइफ़ एन्ड लेटर आफ़ हैनिमैन ” और हैल की ” लाइफ़ एन्ड वर्कस आफ़ हैनिमैन ” के उडते हुये पन्ने मानों वक्त को एक बार फ़िर समेट सा  रहे हैं । यह पुस्तकें मैने शौकिया अपने कालेज के दिनों मे ली थी लेकिन कभी भी पढने की फ़ुर्सत न मिली  । पिछ्ले साल जब hpathy.com के डा. मनीष भाटिया की भावपूर्ण जर्मनी  यात्रा को पढने का अवसर मिला तब इस लेख को लिखने की सोची थी लेकिन फ़िर आलसवश टल गया । १० अप्रेल हैनिमैन की जन्म तिथि के रुप मे जाना जाता है । मुझे नही लगता कि किसी भी अन्य पद्दति मे चिकित्सक अपने सिस्टम के संस्थापकों से इतना नही जुडॆ  हैं जितना कि एक होम्योपैथ । बहुत से कारण हैं लेकिन सबसे बडा कारण है होम्योपैथी का विषम परिस्थियों मे उद्‌भव । हैनिमैन अपनी जिंदगी मे वह सब कुछ बहुत आसानी से पा सकते थे अगर वह वक्त के साथ समझौता कर लेते लेकिन उन्होने नही किया । किसी ने सही कहा है , “कीर्तियस्य स जीवति “ – आज कौन कह सकता है कि हैनिमैन इस जगत मे नही हैं ।

डॉ. क्रिश्चियन फ्राइडरिक सैमुअल हैनिमेन  का जन्म सन्‌ १७५५ ई. की १० अप्रेल को जर्मनी मे सेक्सनी प्रदेश के  माइसेन नामक छॊटे से गाँव मे हुआ था  । एक बेहद गरीब परिवार मे जन्मे हैनिमैन का बचपन अभावों और गरीबी  मे बीता । आपके पिता एक पोर्सीलीन पेन्टर थे ,  सीमित संस्धानों  को देखते हुये  हुये वह चाहते थे कि उनका पुत्र भी इस व्यवसायाय मे रुचि दिखाये । लेकिन अनेक प्रतिभाओं के धनी हैनिमैन को यह मन्जूर नही था । अनेक भाषाओं के ज्ञाता हैनिमैन ने जीवन संघर्ष की शुरुआत  रसायन और अन्य  ग्रन्थों के अंग्रेजी भाषा से जर्मन मे अनुवाद से प्रारम्म्भ  की । सन्‌ १७७५ मे हैनिमैन लिपिजिक मेडिकल की पढाई के लिये निकल पडे , लिपेजेक मेडिकल कालेज मे हैनिमैन को उनके प्रोफ़ेसर डा. बर्ग्रैथ का भरपूर साथ मिला जिसके कारण उनकी पढाई के कई साल पैसों की तंगी के बिना भी चलते रहे ।

हैनिमैन की जिदंगी का महत्वपूर्ण हिस्सा खानाबदोशों की जिदंगी की तरह से बीता । वियाना से हरमैन्स्ट्डट ( जो अब शीबू , रोमेनिया के नाम से जाना जाता है ) जहाँ डा. क्युंरीन ने हैनिमैन को मेडिकल की पढाई के बाद नौकरी  दिलाने मे मदद की । सन्‌ १७७९  मे   हैनिमैन ने मेडिकल की पढाई पूरी की और जर्मनी के कई छॊटे गाँवों मे प्रैक्टिस करनी आरम्भ की लेकिन पाँच साल की प्रैकिटस के बाद उन्होने उस समय के प्रचलित तरीकों से तंग आकर प्रैक्टिस छोड दी । उस समय की मेडिकल चिकित्सा पद्दति आज की तरह उन्नत  न थी । इसी दौरान १७८२ मे हैनिमैन का विवाह जोहाना लियोपोल्डाइन से हुआ जिससे बाद मे उनसे ११संताने हुयीं। सन्‌ १७८५ से १७८९ तक हैनिमैन की जीवका का मुख्य साधन अंग्रेजी से    जर्मनी मे अनुवाद और रसायन शास्त्र मे शोधकार्यों से रहा । इसी दौरान हैनीमैन ने आर्सेनिक पाइसिन्ग पर शोध पत्र  जारी किया  । सन्‌ १७८९ मे हैनिमैन एक बार फ़िर सपरिवार लिपिजिक की तरफ़ चल दिये । “मरकरी का  सिफ़लिस मे कार्य” हैनिमैन ने सालयूबल मरकरी के रोल को अपने नये शोध पत्र मे वर्णित किया ।

सन्‌ १७९१ , ४६ वर्षीय हैनिमैन के लिये महत्वपूर्ण रहा । उनके नये विचारों को नयॊ दिशा देने मे कलेन की मैटिया मेडिका का अनुवाद रहा । एक बार जब  डाक्‍टर कलेन की लिखी “कलेन्‍स मेटेरिया मेडिका” मे वर्णित कुनैन नाम की जडी के बारे मे अंगरेजी भाषा का अनुवाद जर्मन भाषा में कर रहे थे तब डा0 हैनिमेन का ध्‍यान डा0 कलेन के उस वर्णन की ओर गया, जहां कुनैन के बारे में कहा गया कि ‘’ यद्यपि कुनैन मलेरिया रोग को आरोग्य करती है, लेकिन यह स्वस्थ शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा करती है।
हैनिमैन ने कलेन की यह बात पर तर्कपूर्वक विचार करके कुनैन जड़ी की थोड़ी थोड़ी मात्रा रोज खानीं शुरू कर दी। लगभग दो हफ्ते बाद इनके शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा हुये। जड़ी खाना बन्द कर देनें के बाद मलेरिया रोग अपनें आप आरोग्य हो गया। इस प्रयोग को  हैनिमेन ने कई बार दोहराया और हर बार उनके शरीर में मलेरिया जैसे लक्षण पैदा हुये। क्विनीन जड़ी के इस प्रकार से किये गये प्रयोग का जिक्र डा0 हैनिमेन नें अपनें एक चिकित्‍सक मित्र से किया। इस मित्र चिकित्सक  नें भी  हैनिमेन के बताये अनुसार जड़ी का सेवन किया और उसे भी मलेरिया बुखार जैसे लक्षण पैदा हो गये।
हैनिमैन ने अपने प्रयोगों  को जारी रखा तथा  प्रत्येक जडी, खनिज , पशु उत्पादन, रासायनिक मिश्रण आदि का स्वयं पर प्रयोग किया। उन्होने  पाया कि दो तत्व समान लक्षण प्रदान नही करते हैं। प्रत्येक तत्व के अपने विशिष्ट लक्षण होते हैं। इसके अतिरिक्त लक्षणों को भौतिक अवस्था में परिष्कृत नही किया जा सकता है। प्रत्येक परीक्षित तत्व ने मस्तिष्क तथा शरीर की संवेदना को भी प्रभावित किया। उन्हे उस समय की चिकित्सा पद्घति ने विस्मित कर दिया तथा उन्होने रोग उपचार की एक पद्धति को विकसित किया जो सुरक्षित, सरल एवं प्रभावी थी। उनका विश्वास था कि मानव में रोगों से लडने की स्वतः क्षमता होती है तथा रोग मुक्त होने के लिए मानव के स्वयं के संघर्ष रोग लक्षणों को प्रतिबिम्बित करते हैं।

कुछ समय बाद उन्‍होंनें शरीर और मन में औषधियों द्वारा उत्‍पन्‍न किये गये लक्षणों, अनुभवो और प्रभावों को लिपिबद्ध करना शुरू किया। हैनिमेन की अति सूक्ष्म दृष्टि और ज्ञानेन्द्रियों नें यह निष्कर्ष निकाला कि और अधिक औषधियो को इसी तरह परीक्षण करके परखा जाय। हैनिमैन अब तक पहले की भाँति एलोपैथिक अर्थात स्थूल मात्रा मे ही दवाओं का प्रयोग करते थे । लेकिन उन्होने देखा कि रोग आरोग्य होने पर भी कुछ दिन बाद नये लक्षण उत्पन्न होते हैं । जैसे क्विनीन का सेवन करने पर ज्वर तो ठीक हो जाता है पर उसके बाद रोगी को रक्तहीनता , प्लीहा , यकृत , शोध , इत्यादि अनेक उपसर्ग प्रकट होकर रोगी को जर्जर बना डालते हैं । हैनिमैन ने दवा की मात्रा को घटाने का काम आरम्भ किया । इससे उन्होने निष्कर्ष निकाला कि दवा की परिमाण या मात्रा भले ही कम हो , आरोग्यदायिनी शक्ति पहले की तरह शरीर मे मौजूद रहती है और दवा के दुष्परिणाम भी पैदा नही  होते ।
इस प्रकार से किये गये परीक्षणों और अपने अनुभवों को डा0 हैनिमेन नें तत्कालीन मेडिकल पत्रिकाओं में ‘’ मेडिसिन आंफ एक्‍सपीरियन्‍सेस ’’ शीर्षक से लेख लिखकर प्रकाशित कराया । इसे होम्योपैथी के अवतरण का प्रारम्भिक स्वरुप कहा जा सकता है। होम्योपैथी शब्द यूनानी के दो शब्दों (Homois ) यानि सदृश (Similar ) और पैथोज ( pathos ) अर्थात रोग (suffering) से बना है । होम्योपैथी का अर्थ है सदृश रोग चिकित्सा । सदृश रोग चिकित्सा का सरल अर्थ है कि जो रोग लक्षण जिस औषध के सेवन से उत्पन्न होते हैं , उन्हीं लक्षणॊं की रोग मे सदृशता होने पर औषध द्वारा नष्ट किये जा सकते हैं । यह प्रकृति के सिद्दांत “ सम: समम शमयति ” यानि similia similbus curentur पर आधारित है । लेकिन हैनिमैन के शोध को तगडे विरोध का सामना करना पडा और हैनिमैन पर उनकॆ दवा बनाने के तरीको पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई ।

लेकिन सन्‌ १८०० मे हैनिमैन को अपने नये तरीको से सफ़लता मिलनी शुरु हुयी जब स्कारलैट फ़ीवर नाम के महामारी मे बेलोडोना का सफ़ल रोल पाया गया । एक बार फ़िर हैनिमैन अपने समकक्ष चिकित्सकों के तगडे विरोध का कारण बने ।

सन्‌  १८१० हैनिमैन ने आर्गेनान आफ़ मेडिसन का पहला संस्करण निकाला जो होम्योपैथी फ़िलोसफ़ी का महत्वपूर्ण स्तंभ था । १८१४ तक जाते-२ हैनिमैन ने अपने , अपने परिवार और कई मित्र चिकित्सकॊ जिनमे गौस , स्टैफ़, हर्ट्मैन और रुकर्ट प्रमुख थे ,  के ग्रुप पर दवाओं कॊ परीक्षण करना प्रारम्भ किया । इस समूह को हैनिमैन ने प्रूवर यूनियन का नाम दिया ।

सन्‌ १८१३ मे हैनिमैन को एक बार फ़िर सफ़लता हाथ लगी । जब नेपोलियन की सेना के जवानों के बीच टाइफ़स महामारी बन के उभरी । बहुत जल्द ही यह माहामारी जरमनी  मे भी आ गई , इस बार हैनिमैन को ब्रायोनिया और रस टाक्स से  सफ़लता हाथ लगी । सन्‌ १८२० मे  लिपिजक शहर की काउनसिल से हैनिमैन के कार्यों पर पूरी तरह से रोक लगा दी और सन १८२१ मे हैनिमैन को शहर से बाहर जाने का रास्ता दिखाया । हैनिमैन कोथन की तरफ़ चल दिये , यहाँ  के ड्यूक फ़रडनीनैन्ड जो हैनिमैन की दवा से लाभान्वित हो चुके थे , कोथन मे नये तरीको से प्रैकिटस और दवाओं को बनाने की इजाजत दी । कोथन मे हैनिमैन लगभग १२ साल तक रहे और यहाँ से होम्योपैथी को नया आधार मिला ।

इसी दौरान कोथन मे हैनिमैन  जटिल रोगों और मियाज्म पर किये कार्यों को सामने ले कर आये  । सन १८२८ मे हैनिमैन ने chronic diseases पर पहला संस्करण निकाला । हैनिमैन की विचारधारा के एक तरफ़ तो सहयोगी भी थे जिनमे बोनिगहसन , स्टाफ़ , हेरिग और गौस थे उधर दूसरी तरफ़ कुछ साथी चिकित्सक जिनमे डा. ट्रिन्क्स ने असहोयग का रास्ता अपनाते हुये उनके नये कार्यों को समय से प्रकाशन होने मे अडंगे लगाये ।

सन्‌ १८३१ मे होम्योपैथी को एक बार फ़िर से सफ़लता हाथ लगी , इस बार रुस के पशिचमी भाग से महामारी के रुप मे फ़ैलता  हुआ कालरा मे होम्योपैथिक औषधियों जिनमे कैम्फ़र , क्यूपरम और वेरटर्म ने न जाने कितने रोगियों की जान बचायी

कोथन मे हैनिमैन को डा. गोटफ़्रेट लेहमन का अभूतपूर्व सहयोग मिला ,। लेकिन लिपिजिक मे हैनिमैन नकली होम्योपैथों के रुप मे बढती भीड से काफ़ी खफ़ा हुये । सन्‌ १८३३ मे लिपिजिक मे पहला होम्योपैथिक अस्पताल डा. मोरिज मुलर के तत्वधान मे खुला ; सन्‌ १८३४ तक हैनिमैन बडे चाव से इस अस्पताल मे अपना सहयोग देते रहे । लेकिन सन्‌ १८३५ मे हैनिमैन के पैरिस के लिये रवाना होते ही जल्द ही अस्पताल पैसे की तंगी के कारण  १८४२ मे बन्द करना पडा ।

हैनिमैन  की जीवन के आखिरी क्षण कुछ रोमांन्टिक नावेल से कम नही थे । सन्‌ १८३४ मे ३२ वर्षीय  खूबसूरत मैरी मिलानी ८० साल के  हैनिमैन की जिंदगी मे आयी और  मात्र तीन महीने की मुलाकात के बाद उनकी जिंदगी के हमसफ़र हो गयी । मिलानी का रोल हैनिमैन की जिदगी मे बहुत ही विवादस्तमक रहा । उनका मूल  उद्देशय हैनिमैन के नयी चिकित्सा पद्दति मे था । इसके बाद की घटनाये इस बात का पुख्ता सबूत थी कि मिलानी किस उद्देशय से आयी थी ।

लेकिन यह भी सच था कि कई साल के संघर्ष, गरीबी और मुफ़लसफ़ी के बाद हैनिमैन ने अपनी खूबसूरत पत्नी के साथ फ़्रान्स की उच्च सोसयटिइयों मे जगह बनाई । जीवन के आखिरी सालों  मे मिलानी ने हैनिमैन को उनके पहली पत्नी से हुये  संतानों से दूर कर दिया और पैरिस मे हैनिमैन को अपने नये प्रयोगों को जारी रखने को कहा । फ़्रान्स मे हैनिमैन ने LM पोटेन्सी पर किये कार्यों को आखिरी जामा पहनाया । फ़्रान्स मे होम्योपैथी की शोहरत जर्मनी से अधिक फ़ैली , यहाँ‘ एक तो अंडगॆ कम थे और बाकी एलोपैथिक चिकित्सकॊ मे भी  नयी चिकित्सा पद्द्ति को अजमाने मे दिलचस्पी भी थी । आर्गेनान का छटा संस्करण फ़्रान्स मे ही हैनिमैन ने लिखा लेकिन मिलानी के रहते सन्‌ १८४३ मे हैनिमैन की मृत्यु के बाद भी उसका प्रकाशन न हो पाया । ८८ वर्षीय हैनिमैन सन्‌ १८४३ मे मृत्यु को प्राप्त हुये । लेकिन जाते-२ वह होम्योपैथिक जगत को आर्गेनान का छटा  बेशकीमती संस्करण देते गये । मिलानी के चलते यह महत्वपूर्ण संस्करण जिसमे हैनिमैन ने LM पोटेन्सी की जोरदार वकालत की , प्रकाशित न हो पाया । मिलानी इसके बदले मे प्रकाशक से मॊटी रकम चहती थी जिसका मोल भाव हैनिमैन के रहते न हो पाया । हैनिमैन की मृत्यु के कई साल के बाद सन्‌ १९२० मे इस संस्करण को विलियम बोरिक और सहयोगियों की मदद से प्रकाशित किया गया । लेकिन तब तक पूरे विश्व मे होम्योपैथिक चिकित्सकों के मध्य आर्गेनान का पाँचवा संस्करण लोकप्रिय हो चुका था और आज भी हम छटे संस्करण की और विशेष कर LM पोटेन्सी के लाभों से अन्जान ही रह गये ।

मिलानी का विवादों से भरा रोल हैनिमैन को दफ़नाने मे भी रहा । एक अनाम सी जगह मे हैनिमैन को उन्होने गोपनीय ढंग से दफ़नाया  । बाद मे विरोध के चलते हैनिमैन के पार्थिव शरीर को एक दूसरी कब्र मे दफ़नाया गया जिसके ऊपर वर्णित किया गया , ” Non inutilis vixi , ” I have not lived in a vain ” ” मेरी जिंदगी व्यर्थ  नही गयी ”

रसायन और मेडेसिन  मे ७० से ऊपर मौलिक कार्य, लगभग दो दर्जन से अधिक पुस्तकों का अंग्रेजी , फ़्रेन्च, लैटिन और ईटालियन से जर्मन भाषा मे अनुवाद , अपने दम और तमाम विरोधों के बीच पूरी पद्दति का बोझा उठाये हैनिमैन को कम कर के आँकना उनके साथ नाइन्साफ़ी होगी । और सब से से मुख्य बात वह मृदुभाषी थे , अपने मित्र स्टैफ़ को लिखे पत्र मे वह लिखते हैं , “ Be as sparing as possible with your praises . I do not like them . I feel that I am only an honest , straightforward man who does no more than his duty . ”

रात बहुत हो चुकी है , मुझे लगता है अब सो जाना चाहिये , कल फ़िर १० अप्रेल होगी , एक बार फ़िर हम किसी न किसी होम्योपैथिक कालेज के प्रांगण मे हैनिमैन को याद कर रहे होगें लेकिन होम्योपैथिक की शिक्षा प्रदान देने वाले संस्थान अपने आप से पूछ के देखें कि इतने सालों मे हम एक दूसरा हैनिमैन क्यूं नही बना पाये ? हमे इन्तजार है उस पल का , एक नये अवतरित होते हैनिमैन का और आर्गेनान के साँतवें संस्करण का भी …….
अलविदा …
शुभरात्रि ।

यह भी देखें :