बवासीर या पाइल्स और होम्योपैथिक उपचार

 

बवासीर को आधुनिक सभ्यता का विकार कहें तो कॊई अतिश्योक्ति न होगी । खाने पीने मे अनिमियता , जंक फ़ूड का बढता हुआ चलन और व्यायाम का घटता  महत्व , लेकिन और भी कई कारण हैं  बवासीर के रोगियों के बढने में । तो सबसे पहले जाने बवासीर और उसके मूल कारण :

आंतों के अंतिम हिस्से या मलाशय की धमनी शिराओंके फ़ैलने को बवासीर कहा जाता है ।

बवासीर तीन प्रकर की हो सकती है

  • बाह्य पाइल्स: फ़ैली हुई धमनी शिराओं का मल द्वार से बाहर आना
  • आन्तरिक पाइल्स : फ़ैली हुई धमनी शिराओं का मल द्वार के अन्दर रहना
  • मिक्सड पाइल्स: भीतरी और बाहरी मस्से

कारण :

  • बहुत दिनों तक कब्ज की शिकायत रहना
  • सिरोसिस आफ़ लिवर
  • ह्र्दय की कुछ बीमारियाँ
  • मध, मांस, अण्डा, प्याज , लहसुन, मिर्चा, गरम मसाले से बनी सब्जियाँ, रात्रि जागरण , वंशागत रोग ।
  • मल त्याग के समय या मूत्र नली की बीमारी मे पेशाब करते समय काँखना
  • गर्भावस्था मे भ्रूण का दबाब पडना
  • डिस्पेपसिया और किसी जुलाब की गोली क अधिक दिनॊ तक सेवन करना ।

लक्षण

  • मलद्वार के आसपास खुजली होना
  • मल त्याग के समय कष्ट का आभास होना
  • मलद्वार के आसपास पीडायुक्त सूजन
  • मलत्याग के बाद रक्त का स्त्राव होना
  • मल्त्याग के बाद पूर्ण रुप से संतुष्टि न महसूस करना

बवासीर से बचाव के उपाय

कब्ज के निवारण पर अधिक ध्यान दें । इसके लिये :

  • अधिक मात्रा मे पानी पियें
  • रेशेदार खाध पदार्थ जैसे फ़ल , सब्जियाँ और अनाज लें | आटे मे से चोकर न हटायें ।
  • मलत्याग के समय जोर न लगायें
  • व्यायाम करें और शारिरिक गतिशीलता को बनाये रखें ।

अगर बवासीर के मस्सों मे अधिक सूजन और दर्द हो तो :

गुनगुने पानी की सिकाई करें या ’सिट्स बाथ’ लें । एक टब मे गुनगुना पानी इतनी मात्रा मे लें कि उसमे नितंब डूब जायें  । इसमे २०-३० मि. बैठें ।

होम्योपैथिक उपचार :

किसी भी औषधि की सफ़लता रोगी की जीवन पद्दति पर निर्भर करती है । पेट के अधिकाशं रोगों मे रोगॊ अपने चिकित्सक पर सिर्फ़ दवा के सहारे तो निर्भर रहना चाहता है लेकिन  परहेज से दूर भागता है । अक्सर देखा गया है कि काफ़ी लम्बे समय तक मर्ज के दबे रहने के बाद मर्ज दोबारा उभर कर आ जाता है अत: बवासीर के इलाज मे धैर्य और संयम की आवशयकता अधिक पडती है ।

नीचे दी गई  औषधियाँ सिर्फ़ एक संकेत मात्र हैं , दवा पर हाथ आजमाने की कोशिश न करें , दवा के उचित चुनाव के लिये एक योग्य होम्योपैथिक चिकित्सक पर भरोसा करें  ।

फ़्लो चार्ट को साफ़ और बडॆ आकार मे  देखने के लिये चित्र पर किल्क करें ।

१. बवासीर के मस्सों मे तकलीफ़ और अधिक प्रदाह : aconite, ignatia,acid mur, aloes, chamomilla, bell,acid mur, paeonia

२. खुजलाहट : arsenic, carbo, ignatia, sulphur
३. स्ट्रैंगुलैशन : belladona,ignatia, nux

४.रक्तस्त्राव में : aconite, millifolium,haemmalis, cyanodon

५. मस्से कडॆ : sepia

६. बवासीर के मस्सों का बाहर निकलना पर आसानी से अन्दर चले जाना : ignatia

७. भीतर न जाना : arsenic, atropine, silicea, sulphur
८. कब्ज के साथ : alumina, collinsonia, lyco, nux, sulphur

९.अतिसार के साथ : aloes,podo,capsicum

१०. बच्चों मे बवासीर  : ammonium carb, borax, collinsoniia, merc

११. गर्भावस्था मे बवासीर : lyco,nux, collinsonia , lachesis, nux

१२.शराबियों मे बवासीर : lachesis, nux

१३. वृद्धों मे बवासीर : ammonium carb , anacardium

7 responses to “बवासीर या पाइल्स और होम्योपैथिक उपचार

  1. डाक्‍टर साहब आपके द्वारा दी जानकारी बहुत लाभप्रद है मेरी उम्र 33 वर्श है मुझे पाइल्स के साथ युरिक एसिद की समस्या है साथ ही पूरे शरीर के बाल तेजी से सफेद हो रहे है क्या इन सभी चीजो का आपस मे कोइ सम्बन्ध है इस बारे मै कोइ जानकारी दे सके तो बडी मेहरबानी होगी या क्या कोइ ऐसा हिन्दी ब्लोग है जिस पर मेरी समस्या का समाधान हो सके ध्न्यवाद्

  2. I am suffuring from piles last three months.Ihave taken homoepathic medicine as per consultation of doctor.First I was feeling only pain after 15-20 days start bleeding.medicines are given to me are B-9{ baksons hemoorrieds 6x medicine}A,thuja-200, millifollium 200, ascules 200, megphos 1m,causticum-200. in last thuja10m. berore causticum and thuja 10m i was feeling better.But as doctor give me causticum and thuja 10m my problem became critical and doctor ad vised me to go immediate in allopathy.Allopathy failed and now I am taking ayurvedic medicine which is covering about50% problem.Now not bleeding but great pain and burning after latrin.I have a good faith in homoepathy but un luckly in this dieses i was not treated properly.I reqest you may u suggest me medicine.I would be highly obised by u.HereI also inform u that I have no constipation history.

  3. i m rahul i have a blog HOMOEOPATHYDISEASE.BLOGSPOT.COM
    please add ur comments in my blog and information.

  4. I am suffuring from piles last thirty years.Ihave taken homoepathic medicine alopathic medicensaryuvadic unani alots. but still problem(seek )by pile my prolabes coming out side in thime of lettrin after that pushed in side by hand
    HereI also inform u that I have no constipation history.
    I’m taking food very normly since 30years

    please suggest us what to do .pl.do needful for us

  5. I am suffuring from piles last thirty years.Ihave taken homoepathic medicine alopathic medicensaryuvadic unani alots. but still problem(seek )by pile my prolabes coming out side in thime of lettrin after that pushed in side by hand
    HereI also inform u that I have no constipation history.
    I’m taking food very normly since 30years

    please suggest us what to do .pl.do needful for us
    thanks

  6. Your analysis and sugestion are very helpful.
    Thanks.
    J.P.Pathak

  7. your sugestion are veryhelpfull.
    Thank’s
    Rajani
    Patna

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s