Monthly Archives: फ़रवरी 2008

होम्योपैथिक मैटेरिया मेडिका मे औषधियों के मध्य तुलनात्मक अधयन्न ( Comparative study of Homeopathic medicines in Materia Medica )

होम्योपैथिक मैटॆरिया मेडिका मे औषधि के अधयन्न करते समय लक्षणॊं को याद करना और बाद मे अन्य औषधियों से तुलना करते समय लक्षणॊं के सम्बन्ध समझना दिलचस्प है । मैटेरिया मेडिका मे हर लक्षण महत्वपूर्ण नही होते ; सामान्य से दिखने वाले लक्षण की अपेक्षा ऐसे लक्षण जो दुर्लभ हों और औषधि के स्वरुप को सामने लाते हों वह अधिक महत्वपूर्ण होते हैं । जैसे कोनियम के एक लक्षण को लें – चक्कर आना । कोनियम का चक्कर सिर घुमाने य इधर-उधर देखने से या बिस्तर पर करवट बदलने से बढता है ; यह कोई फ़र्क नही पडता कि यह चक्कर किन परस्थितियों मे आ रहा है , वह चाहे cervical spondylitis से जुडी हो या Meniere’s disease या hypertension से ।

चक्कर से संबधित अन्य औषधियों के मध्य एक रोचक तुलनात्मक पहलू देखें ।

चक्कर आये , सिर घुमाने से – conium, cal-carb, kali carb

चक्कर आये , सिर हिलाने से :- bryo, cal carb, conium

चक्कर आये , ऊपर देखने से :- pulsatilla, silicea

चक्कर आये , नीचे देखने से :- phos, spigellia

चक्कर आये , फ़ूलों की गन्ध से -Nux vom , phos

चक्कर आये , रात को जागने से या पूरी नींद न होने से : Cocculus, Nux Vom

चक्कर आये , जरा सी आवाज से :- Theridion

चक्कर आये ,अध्ययन के समय :- Nat Mur

चक्कर आये , खाना खाने के बाद :- Gratiola, nux vom, pulsatilla

चक्कर आये ,जैसे बिस्तर उलट गया हो :- conium

चक्कर आये ,बेहोशी के साथ :- nux vom

चक्कर आये ,आँखे बन्द करने पर या अन्धेरे में :- argent nit, stramonium, thyrodin

चक्कर आये ,बैठकर खडा होने पर :- bryo, phos

चक्कर आये ,बैठकर झुकने पर :-belladona

चक्कर आये ,बिस्तर से उठने पर :-bryo, chelidonium, cocculus

चक्कर आये ,झुकने पर :- bell, nux vom, puls, sulphur

चक्कर आये ,सीढियाँ चढने पर:- calc carb

चक्कर आये ,सीढियाँ उतरने पर :- borax, ferrum

चक्कर आये ,लेटने पर :- conium

चक्कर आये ,दांयें करवट लेटने से:- mur acid,phos

चक्कर आये , वायें करवट लेटने से :-iod,phos,sil

चक्कर आये ,लेट जाना पडे:- bryo, cocculus, phos, puls

चक्कर आये ,सॊने के बाद :- lachesis , petroleum

चक्कर आये ,जी मिचलाने के साथ:- cocculus ind, petroleum, chin sulph

स्त्रोत:- नैश थेरापेयुटिकस (Leaders in Homeopathic Therapeutics by Nash )

औषधियों के बीच के अन्तर समझने से औषध का चयन आसान और एक चिकित्सक का मार्ग सरल हो जाता है । अलग-२ औषधियों के मध्य तुलनात्मक अधयन्न के लिये

फ़ैरिन्टन (Farrington) ,   नैश (Nash)गौस (Gross) और  यूजिनियो ( Eugenio) की comparative मैटेरिया मेडिका अधयन्न योग्य पुस्तकें हैं ।

समयबद्द लक्षण की वृद्दि का होम्योपैथिक औषधियों से संबध (Time of aggravation of Homeopathic remedies)

होम्योपैथिक मैटेरिया मेडिका मे संगृहीत कई औषधियों का समय से गहरा संबध है ; इन औषधियों का महत्व उन रोगियों मे तब और भी अधिक बढ जाता है जब उनके लक्षण की वृद्दि ( aggravation) समय से जुडी पायी जाती हैं । अन्य चिकित्सका पद्दति मे भले ही इन लक्षणॊं की भूमिका नगण्य ही हो लेकिन एक होम्योपैथिक चिकित्सक के लिये यह अक्सर प्रिसक्राइबिंग का आधार बन जाते हैं । उदाहरण के लिये colitis के रोगी मे सुबह नीदं खुलते ही पेट साफ़ (stool) करने के लिये भागना , या दमे के रोगी मे रात १२-२ बजे या सुबह ४-५ के बीच साँस का फ़ूलना , नाना प्रकार के ज्वर में रात गये बुखार का बढना , इत्यादि रोगों मे इन लक्षणॊं की प्रमाणिकता होम्योपैथिक औषधियों द्वारा निवारण से सिद्द होती है । संक्षेप में देखते हैं समय और होम्योपैथिक औषधियों की भूमिका :-

Ars —– 1-2 a. m. and 1-2 p. m.
Kali Carb —– 2-4 a. m.
Calc. —– 3 a. m.
Sulphur —– 3-5 a. m.(colitis में ) और 11a.m. (अत्यन्त कम्जोरी और पॆट मे खालीपन मालूम पडना -empty all gone sensation )
Nux Vom. —– 4-5 a. m.
Arn., Hep., Nux Vom. —– 6 a. m.
Bov., Bry., Eupat., Pod. —– 7 a. m.
Eupat., Pod. —– 7-9 a. m. (Fever)
Nat. Mur., Stann. —– 9-10-11 a. m. ( विशेषकर migraine और intermittent fever में )
Chin. S., Nat. Mur. —– 10-11 a. m.
Cactus, Bapt., Nat. Mur., Nux, Sulph. —– 11 a. m.
Sulph. : Weak Faint —– 11 a. m.
Lach. —– 12 Noon regularly.
Angust., Ant-t., Apis.
Ced. —– 3 p. m.
Bell. —– 3-4 p. m.
Ced. : Migraine every other day 11 a. m. ; epilepsy starts with slow Convulsions with menses ; abortion occurs at same period each time..
Aranea : Toothache, neuralgia, fever and chill —– at same hour.
Apis, Lyc., Puls. —– 4 p. m.
Kali Carb., Puls., Rhus, Thuja. —– 5 p. m.
Hep., Rhus., Sil. —– 6 p. m.
Lyc., Rhus. —– 7 p. m.
Am-m., Lac-vac-defl., Sulph. —– Every 7 days.
Ars., Carb-v., Lach., Psor., Rhus Rad., Sulph., Tub. —– Return same day, week, month, year.
Rhus Rad. —– Yearly recurrence at same hour of day.12

टीकाकरण -एक सच यह भी (Vaccination: The Hidden Truth)

टीकाकरण की उपयोगिता और उनसे होने वाली सुरक्षा से कोई भी इन्कार नही कर सकता लेकिन पिछ्ले कुछ सालों से नये-२ टीकॊं का प्रवेश , गली-२ टेन्ट लगाये ५०-१००/- तक टीकाकरण करने की होड ने एक सवालिया निशान खडा कर दिया है कि इनकी उपयोगिता वास्तव मे है या इसके अन्दर की कहानी कुछ और ही है । सरकारी जन-आन्दोलन मे टीकरण की महत्ता से हम पीछे हटने की बात नही कर रहे हैं , पोलियो, डी.पी.टी., बी.सी.जी. और खसरा के टीकों को छोडकर बाकी प्राइवेट लगने वाले टीके कितने सुरक्षित हैं , यह भी एक सवालिया निशान है । देर-सवेर अखबारों से निकलने वाली खबरें खुद ब खुद इन पर इशारा करती रहती हैं । नीचे इस वीडियो को ध्यान से देखिये और कुछ सच जानने की कोशिश करिये ।
स्त्रोत: informationliberation.com

This is the first half of the shocking but extremely informative video documentary “Vaccination – The Hidden Truth” (1998) where 15 people, including Dr. Viera Scheibner (a PhD researcher), five medical doctors, other researchers, and parents’ experiences, reveal what is really going on in relation to illness and vaccines.
With so much government and medical promotion of vaccination for prevention of disease, ironically, the important facts presented here come from the orthodox medicine’s own peer-reviewed research. The result is a damning account of the ineffectiveness of vaccines and their often harmful effects.

It shows that parents are not being told the truth by the media, the Health Department and the medical establishment, with a medical doctor, Dr. Mark Donohoe, confessing that “It is a problem for me that I am part of a profession that is systematically lying to people.”

Find out how vaccines are proven to be both useless and have harmful effects to your health and how it is often erroneously believed to be compulsory.

Many people simply refuse to believe the truth regardless of how clear it is, but the impeccable documentation presented in this amazing video has changed the minds of many who have seen it.
SOURCE: informationliberation.com

कुछ नयी होम्योपैथिक औषधियों के औषधि परीक्षण-1 (The Provings of new Homeopathic Remedies-1)

  होम्योपैथिक औषधियों के परीक्षण स्वस्थ मनुषयों पर किये जाते हैं । इधर हाल के दिनों मे कई नई औषधियों का समावेश हुआ है , यह बात कि अलबत्ता कि यह भारत मे उपलब्ध नहीं है । टन्ब्रिज वेल्स , केन्ट की हिलोऐस फ़ार्मेसी इन औषधियों के अधिकृत विक्रेता हैं ।

 


Go to the AIDS proving.

The AIDS Nosode

The nosode prepared from the blood of a man diagnosed as having Acquired Immune Deficiency Syndrome who subsequently died of Syndrome related diseases.

Conducted by Misha Norland at The School of Homœopathy in 1994 and 1995.

Go to the Falco proving.

Falco Peregrinus Disciplinatus

Trained Peregrine Falcon

A remedy prepared from the blood and feather of a Peregrine Tiercel who had been bred in captivity and trained to hunt in the traditional manner.

Conducted by Misha Norland at
The School of Homœopathy in 1997.

Go to the Positronium proving.

Positronium

Antimatter

The radiation produced in the annihilation of Positronium atoms.

Conducted by Misha Norland at The School of Homœopathy in 1998.


Go to the Dreaming Potency proving.

Dreaming Potency

A remedy prepared from a medicine given to Janet Snowdon by Sangomas in South Africa.

Conducted by Janet Snowdon in Bath in 1996.


Go to the Proving of Kauri.

Agathis Australis

Kauri

A remedy prepared from the gum of the magnificent Kauri tree of New Zealand.

Conducted by Misha Norland
at The School of Homœopathy.


Go to the Proving of Lava.

Lava

Basaltic Lava from Flagstaff Arizona.

Conducted by Misha Norland at The School of Homœopathy


Go to the Proving of Crack Willow.

Salix fragilis

Crack Willow

Conducted by Penny Stirling in Bristol in 1998.

Go to the Proving of North Wales Slate.

North Wales Slate

Conducted by Misha Norland in Czechoslovakia
and by Andy Brachi and Jenny Hill in North Wales

Summer 1996

Go to the Proving of
Knopper Oak Galls

Knopper Oak Gall

Gall on Quercus pendunculata caused by the wasp Cynips calicis.

Conducted by Misha Norland in Moravia in 1998.

Go to the Proving of
LSD-25

LSD-25

D-Lysergic Acid Diethylamide

Conducted by Misha Norland
at The School of Homœopathy in 1999.

Go to the Proving of Heroin

Heroin

Dia-morphione

Conducted by Janet Snowdon in 1999 and 2000

Go to the Proving of Reindeer Moss

Reindeer Moss

Cladonia rangiferina

Conducted by Misha Norland
at the School of Homœopathy in 2000

Go to the Proving of Bewick Swan

Cygnus Bewickii

The Bewick Swan

Conducted by Penny Stirling in Bristol 2002

Go to the Proving of Rubber

Latex vulcani

Vulcanized Rubber prepared from a natural latex condom.

Conducted by Misha Norland and Peter Fraser
at The School of Homœopathy in 2001

Go to the Proving of Buckyballs

Carbo Fullerenum

Buckyballs or Carbon 60

Conducted by Misha Norland and Peter Fraser
at The School of Homœopathy in 2002

Go to the Proving of Galium Aparine

Galium aparine

Cleavers or Goosegrass

Conducted by Misha Norland and Peter Fraser
at The School of Homœopathy in 2003

Go to the Proving of Passer domesticus

Passer domesticus

The House Sparrow

Conducted by Misha Norland and Peter Fraser
at the School of Homœopathy in 2004

Go to the Proving of
Pavo Cristatus

Pavo cristatus

Peacock Feather

Conducted by Peter Fraser
and members of The Homœopathic Development and Research Centre Kathmandu, Nepal in 2005

Go to the Proving of
Blatta orientalis

Blatta orientalis

Cockroach

Conducted by Dr. Munjal Thakar
in Bombay in 1995

Provings now being Collated

Provings whose results are now being collated and prepared for publication on this site include:

Aqua nova

Conducted by Misha Norland and Peter Fraser
at the School of Homœopathy in 2006

Amphisbaena alba

Conducted by Misha Norland
at the School of Homœopathy in 2001

The Provings of New Homœopathic Remedies

The texts of the following provings are available on this site or are in the process of being compiled. Each proving includes the symptoms as recorded by the provers or their supervisors, an introduction by the proving’s organizer and other information about the substance, a repertorization and details of cured cases.

Creative Commons License
These provings are licensed under a Creative Commons Attribution-NonCommercial-ShareAlike 2.5 License.

Obtaining Remedies

All these provings were conducted with Remedies that are available from Helios Homœopathic Pharmacy in Tunbridge Wells, Kent, England. Helios is both knowledgeable about and supportive of the proving of new remedies.

Go to the Helios Website at www.helios.co.uk

बौवल नोसोडस ( Bowel Nosodes )

बौवल नोसोडस ( Bowel Nosodes ) का चलन होम्योपैथी मे कम ही है , शायद इसकी उपलब्धता सहज ही होम्योपैथिक स्टोरों मे न होने की वजह से ही ; बिल्कुल ठीक वैसे ही जैसे कि बैच फ़्लावर औषधियों का प्रिसक्रिप्शन देख कर  अक्सर स्टॊर वाले ऐलोपैथिक औषधि कह कर टाल जाते हैं । वैसे उनको भी दोष देना उचित नही लगता , जहाँ तक मुझे याद है कि B.H.M.S. के पाठयक्रम में   बैच फ़्लावर औषधियों और बौवल नोसोडस का समावेश नही हैं , बैच फ़्लावर का प्रयोग मैने शुरु मे डां जयश्री जोशी और बाद मे अपने शहर लखनऊ से ही मित्र डां अभिषेक जैन के सफ़ल परिणामों को देखते हुये किया और यह कहना गलत न होगा कि कुछ जगह तो उनके परिणाम बहुत ही आशचर्य चकित करने वाले दिखते हैं ।

लेकिन बौवल नोसोडस की मुझे क्यों याद आई ! दरअसल शायद ४-५ दिन पूर्व आइरिश स्कूल आफ़ होम्योपैथी के एक सदस्य मार्क ओ सूलवियन ने बौवल नोसोडस पर किये प्रोजेक्ट को आइरिश ग्रुप आफ़ होम्योपैथैस मे डाला । ग्रुप के moderator  ने अन्य सदस्यों से अनुरोध किया कि अपने कम्पयूटर की हार्ड डिस्क को खंगालें और होम्योपैथी से जुडी अपने-२  अध्यापन कार्य  को सार्वजनिक करें ; एक अच्छा  सुझाव ! अन्य कई साईट पर अपने-२ गुणगानों को देखते-सुनते तबियत ऊबने सी लगी थी ।

बौवल नोसोडस से संबधित होम्योपैथिक औषधियों को लाने का श्रेय डां ईडवर्ड बैच को सर्वप्रथम रहा और बाद मे डां पैटर्सन और उनकी पत्नी ने बैच के अधूरे काम को आगे बढाया । बौवल नोसोडस से संबधित होम्योपैथिक औषधियाँ human intestinal flora के non fermenting lactose bacteria से बनाई जाती हैं , बैच ने पाया कि ऐसे non fermenting lactose bacteria की तादाद स्वस्थ मनुष्य की अपेक्षा रोगी के मल मे अधिक पायी जाती है । अब तक इन बैक्टैरिया को हानिकारक नही माना जाता रहा है , बैच ने इन बैक्टैरिया को पोटेन्टाइज करके अलग-२ औषधियाँ बनाई और उनकी drug proving  की ।

बोवेल नोसोडस से तैयार औषधियाँ कई हैं लेकिन जो आमतौर से प्रयोग आती रही हैं , वह निम्म हैं :

१. Morgan Pure

२. Morgan Gaertner

३. Gaertner

४. Proteus

५. Dysentry Co.

मार्क सूलिवयन ने free mind mapping software का प्रयोग करते हुये बौवेल नोसोडस के लक्षणॊं का खूबसूरत चित्रण किया है जैसे नीचे देखें  morgan pure का mind map:( mind map को साफ़ देखने के लिये नीचे चित्र पर किल्क करें )

मार्क सूलिवयन के इस प्रोजेक्ट को डाऊन्लोड करने के लिये नीचे दिये चित्र पर किल्क करें :

bowel nosodes