चन्द लम्हों की ब्लागरिया मुलाकात

शनिवार को दोपहर मे अचानक क्लीनिक मे जब मोबाइल ने ध्यान भंग किया तो उधर से आवाज आई , “मै बोल रहा हूँ , पहचाने ? ” और फ़टाक से बिजली की तरह आवाज को आखिर पहचान ही लिया , यह आवाज अनूप शुक्ल जी यानि फ़ुरसतिया जी की थी . हाँ , कुछ दिन पहले होली पर ही तो इसी अन्दाज मे बात हुई थी . कहने लगे , ” अरे मै कल सुबह लखनऊ आऊगाँ और आपसे और पानी के बताशे “अनुराग भाई “ से भी मिलने आऊगाँ.” मैने सुबह अनूप जी से कहा कि आप पहले मेरे यहाँ आ जायें , फ़िर उसके बाद हम दोनो अनुराग जी के यहाँ चलेगें. लेकिन दोपहर को अनुराग ने फ़ोन पर कहा कि समय बरबाद करने से क्या फ़ायदा , हम लोग एक ही जगह यानि मेरे निवास पर मिलते हैं.
तो इस तरह शुरु हुई यह छोटी सी ब्लागारिया मुलाकात . मेर्री पत्नी ’अनिका ’से दोनो का परिचय हुआ और यह जानकर कि अनिका कानपुर से ही हैं ,अनूप भाई तो कुछ अधिक ही खुश दिखे , इन कानपुरियों के साथ बस यही दिक्कत है , जहाँ कानपुरिये देखे बत्तीसी दिखा दी😆 😆 😆
लेकिन अनूप भाई की खुशी अधिक देर तक कायम न रह पायी क्योंकि अनुराग ने अनूप जी को कानपुर का होने के नाते भाई का दर्जा दे दिया और अपने को देवर का . अब अनूप जी के सामने परेशानी कि बहन के आयें हैं तो खायें कैसे ? सबसे नीचे देखिये कि बेचारे कितने दुखी दिख रहे हैं .😦
खैर मान मनौवत के बाद उनको खाने को राजी कर ही लिया💡 . नारद , जीतूभाई , समीर जी , अफ़लातून जी , पंकज और संजय बेगाणी , प्रमेन्द्र , शुएब और हमारे सम्मानित मास्साब के बारे मे खुल कर चर्चा हुई. शाम कैसे आ गयी , मालूम नही पडा , लेकिन मुझे तो क्लीनिक के लिये खिसकना था और इसके बाद यह दोनो अगले दो घटॆं तक सुना है किसी पेड के नीचे बिल्लागिरी करते पाये गये .😯🙄

अनूप �ाई, मै और अनुराग �ाई
अनूप भाई , मै और अनुराग जी
अनूप जी और अनुराग
अनूप जी और अनुराग
अनूप जी और मेरी पत्नी ’अनिका’
अनूप जी और मेरी पत्नी ’अनिका’

21 responses to “चन्द लम्हों की ब्लागरिया मुलाकात

  1. हम भी आप हे के यहाँ आ रहे हैं🙂

  2. लो भई, यह भी खूब रही. अनूप भाई के सामने पकवान रखे हैं और बेचारे खा नहीं पा रहे हैं. अंतिम चित्र में चेहरे से यह वेदना देखी जा सकती है.

    अनुराग भाई, आपके और भाभी जी के तस्वीर के माध्यम से दर्शन प्राप्त कर धन्य हुए. बढ़िया रही. अब अनूप भाई और अनुराग की जुबानी सुनी जायेगी आपकी मेजबानी की कहानी.🙂

  3. डाक्टर साहिब,
    छोटी सी मगर प्यारी प्यारी और याद रखने लायक इस ब्लागर मीट के लिये आप को बधायी और हम सब के साथ इसे बाँटने के लिये आप का धन्यवाद… कभी लखनऊ आना हुआ तो हम भी बिन मौसम की बरसात की तरह टपक पडेँगे आप के यहाँ भाभी जी के हाथ का स्वादिष्ट खाना खाने के लिये..

  4. बहुत अच्‍छा लगा पढ़ कर, मेरा बारे मे चर्चा हुई या षड़यन्‍त्र ? 🙂

  5. आशा है कि अन्‍यथा नही लेंगें🙂 मजाक कर रहा हूँ।

  6. 🙂 ..फ़ुरसतियाजी ने बडे विस्तार से चैट मे पूरी मुलाकात का किस्सा सुनाया था. उनके लेख का भी इंतज़ार है.

  7. @राम चन्द्र मिश्र , @mohinder kumar
    बिल्कुल आयें. लखनवी अन्दाज मे स्वागत करुगाँ🙂

    @ PRAMENDRA PRATAP SINGH

    मेरा बारे मे चर्चा हुई या षड़यन्‍त्र ?🙂

    तुमको इस षडयन्त्र😯 की जानकारी कैसे हुयी , हमने तो यह राज बहुत गोपनीय रखा था🙂

    @ ई-स्वामी , @ समीरलालजी
    हाँ, वाकई मे फ़ुरसतिया जी के लेख का इंतजार रहेगा 😎

  8. फोटो तो बढि़या आ गये वाह! नीचे वाली फोटो में सोच के भाव यह सोच के आये कि बेचारे ज्ञानदत्तजी और दूसरे ब्लागर ये नास्ते की मेज देखेंगे तो कितना सोचेंगे!🙂 यह परदुखकातरता का पोज है!

  9. अच्छा मीट पकाया आप लोगों ने।🙂 अब तो ब्लॉगर मीट चल निकली हैं। जुलाई में आ रहे हैं न आप भी दिल्ली?

    सबकी फोटो दिखाने के लिए शुक्रिया। अब अनुराग भाई और फुरसतिया जी के विवरण का इंतजार है।

    और हे हे, हमारी क्या चर्चा हुई जी, कान तो नहीं खींचे गए कहीं?🙂

  10. वाह वाह क्या बात है. विवरण सुन (पढ़) मजा आ गया और नजरें बराबर पकवानो पर टिक़ी रही.
    लगता है, दावत उड़ाने लखनऊ आना ही पड़ेगा.🙂

  11. वाह ऐसा लखनवी सत्कार. अपुन को भी आना पड़ेगा अब🙂

  12. भैया जी, हमहू कनपुरिया हैं. कम्पू वाले ब्लौगरों की सूची मेँ हमरा भी नाम डाल लेँ.
    हां,अब ये अलग बात है कि दिल्ली की सेवा कर रहे हैं.

    मीटिंग और ईटिंग की खबरें मिल गयीं ( सुना है कि कुछ चीटिंग..),खैर जाये दो भैया,

    मजा करो और मौज कराओ.

    अरविन्द चतुर्वेदी
    भारतीयम्

  13. सोच रहा हु कि लखनऊ जा क्र्र दावत उड़ा ही लु .

  14. पिंगबैक: फुरसतिया » डा. टंडन के दौलतखाने में फुर्सत के साथ पानी के बतासे

  15. आपने बढ़िया हाल लिखा भेंटवार्ता का। मीट का दौर ज़ोरों पर है। तस्वीरें बढ़िया हैं।

  16. प्रभात जी,

    लखनवी अंदाज़ में आपने और भाभीजी ने अपने दौलत खाने पर हमारी जो ख़ातिरदारी करी उसके लिये तह-ए-दिल से आपका शुक्रिया. आपके घर से मुँह में सिर्फ मिठाइयों की मिठास ही नहीं साथ ही दिल में अपनेपन की चशनी भी घोल कर लाया हूँ. अगली लखनऊ यात्रा पर आपसे दोबारा मिलने की ख़्वाहिश रखता हूँ.

  17. बधाई। आप होम्योपैथी को सरल भाषा में उप्लब्ध कराकर एक पुनीत कार्य किया है।

  18. पिंगबैक: फुरसतिया » एक खुशनुमा मुलाकात…

  19. Homeopathy medicine so sound and safe for child
    ThaDr Harshad Raval MD[hom]
    Honorary consultant homeopathy physician to his Excellency governors of Gujarat India. Qualified MD consultant homeopath ,International Homeopathy adviser, books writer and columnist. Specialist in kidney, cancer, psoriasis, leucoderma and other chronic disease,nks

  20. Homeopathy medicine so sound and safe for child
    Thahk
    Dr Harshad Raval MD[hom]
    Honorary consultant homeopathy physician to his Excellency governors of Gujarat India. Qualified MD consultant homeopath ,International Homeopathy adviser, books writer and columnist. Specialist in kidney, cancer, psoriasis, leucoderma and other chronic disease,nks

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s