प्राचीन भारतीय औषधियाँ और उनके होम्योपैथी उपयोग-5

साराका इंडिका
asoka

सामान्य नाम : अशोक
संस्कृत : अशोक, ककली
हिन्दी : अशोक
परिवार : सिसलपीनियोसि

विवरण :अशोक के वृक्ष का उल्लेख हमारे धार्मिक ग्रंथों मे काफ़ी व्यापक रूप से हुआ है। प्राचीन ॠषियों ने मासिक धर्म सबधित रोगों मे इसकी प्रभावकारिता के लिये गुणगान किया है। इस वृक्ष के छिलके एव फ़ल से यह औषधि बनाई जती है।

होम्योपैथिक उपयोग:
कोलकाता के डा डी एन राय को इसका आशिक प्रमाणन का श्रेय दिया जाता है।

स्त्री रोग-
शवेत प्रदर- Sacrum मे दर्द के साथ गाढा, सफ़ेद एव खून मिश्रित स्त्राव
मासिक -(menstrual cycle)-
अनियमित मासिक , अधिकतर मासिक रूक जाना या कम होना, पेट के निचले हिस्से मे असहनीय दर्द जो मासिक धर्म के बहुत पहले शुरू हो जाता है।

बवासीर-
खूनी बवासीर मे इसका प्रयोग प्रमाणित है। मल्त्याग के बाद कष्ट एव खुजली। सख्त एव दुस्धाय कब्ज

पोटेन्सी-
Q,30

4 responses to “प्राचीन भारतीय औषधियाँ और उनके होम्योपैथी उपयोग-5

  1. डॉक्टर साब इतनी बढिया और अच्छी अच्छी जानकारियां देते रहने के लिए आपका धन्यवाद

  2. dear sir
    you r working greatly in this feiled so plz make it regular for us and send us good knowledge

  3. dear sir
    your working is good
    plz make it regular for us and send us good knowledge

  4. I am veeeryhappy to know about the medicion of
    homeopathy. I also want toknow about lucodromamedicine in homeopathy.
    Thanking you.

एक उत्तर दें

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s